kisan andolan पर बोली मायावती- कानूनों पर पुनर्विचार कर ले सरकार

कृषि कानून को लेकर देश में बवाल चल रहा है इस नए कानून को लेकर किसान दिल्ली कूच करने के लिए राजधानी के बॉर्डर्स पर डेरा जमाए बैठे हुए हैं! एक और दिल्ली के सिंधु और टिकरी सीमा पर हरियाणा और पंजाब के किसान डटे हुए हैं तो वहीं दूसरी और उत्तर प्रदेश सीमा पर भी भारतीय किसान यूनियन नेता राकेश टिकैत के नेतृत्व में किसान हजारों की संख्या में डेरा डाल रखा है! मिली जानकारी के अनुसार अभी तक बताया जा रहा है कि आंदोलनकारी किसान शांति से बैठे हुए हैं और अब तक सहयोग कर रहे हैं! पुलिस ने बताया है कि इससे पहले दिल्ली के बॉर्डर पर डेरा जमाए बैठे किसानों से केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने भी अपील की है कि वह आंदोलन को खत्म करें सरकार बातचीत करने के लिए तैयार है! लेकिन अब वही किसान आंदोलन को लेकर बसपा सुप्रीमो मायावती का बड़ा बयान सामने आया है! बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा कृषि से संबंधित हाल में लागू किए गए तीन कानूनों को लेकर अपनी असहमति जताते हुए पूरे देश में किसान काफी आक्रोशित व आंदोलित भी हैं! इसके मद्देनजर, किसानों की आम सहमति के बिना बनाए गए, इन कानूनों पर केन्द्र सरकार अगर पुनर्विचार कर ले तो बेहतर! see more:- किसान आंदोलन को लेकर संजय राउत का आया बयान, आतंकवादियों जैसा व्यवहार किया जा रहा है किसानों के साथ और…
 

kisan andolan पर बोली मायावती- कानूनों पर पुनर्विचार कर ले सरकार

कृषि कानून को लेकर देश में बवाल चल रहा है इस नए कानून को लेकर किसान दिल्ली कूच करने के लिए राजधानी के बॉर्डर्स पर डेरा जमाए बैठे हुए हैं! एक और दिल्ली के सिंधु और टिकरी सीमा पर हरियाणा और पंजाब के किसान डटे हुए हैं तो वहीं दूसरी और उत्तर प्रदेश सीमा पर भी भारतीय किसान यूनियन नेता राकेश टिकैत के नेतृत्व में किसान हजारों की संख्या में डेरा डाल रखा है! मिली जानकारी के अनुसार अभी तक बताया जा रहा है कि आंदोलनकारी किसान शांति से बैठे हुए हैं और अब तक सहयोग कर रहे हैं! पुलिस ने बताया है कि इससे पहले दिल्ली के बॉर्डर पर डेरा जमाए बैठे किसानों से केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने भी अपील की है कि वह आंदोलन को खत्म करें सरकार बातचीत करने के लिए तैयार है! लेकिन अब वही किसान आंदोलन को लेकर बसपा सुप्रीमो मायावती का बड़ा बयान सामने आया है! बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा कृषि से संबंधित हाल में लागू किए गए तीन कानूनों को लेकर अपनी असहमति जताते हुए पूरे देश में किसान काफी आक्रोशित व आंदोलित भी हैं! इसके मद्देनजर, किसानों की आम सहमति के बिना बनाए गए, इन कानूनों पर केन्द्र सरकार अगर पुनर्विचार कर ले तो बेहतर! see more:-  किसान आंदोलन को लेकर संजय राउत का आया बयान, आतंकवादियों जैसा व्यवहार किया जा रहा है किसानों के साथ और…