फवाद चौधरी का कबूलनामा पुलवामा हमले के पीछे था इमरान खान का हाथ

0
21

Fawad Chaudhary’s confession Imran Khan’s hand behind the Pulwama attack: भारत की सबूत गैंग न तो भारतीय सरकार पर विश्वास करती है और न ही भारतीय सेना पर. लेकिन अब अगर सबूत गैंग पाकिस्तान के मंत्रियों की बातों पर भी न विश्वास करें तो क्या कह सकते हैं. दरअसल पुलवामा हमले के बाद वामपंथी मीडिया ने यह आरोप लगाए थे यह हमला भारतीय सरकार और सेना की साजिश थी.

जबकि अब पाकिस्तान के मंत्री फवाद चौधरी ने पाकिस्तान की संसद में खुद यह कबूल किया है की पुलवामा हमला पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की बड़ी कामयाबी थी. बात करें भारतीय सेना की तो वह पहले से ही इस बात को दोहरा रहे थे की, यह हमला पाकिस्तान की तरफ से करवाया गया है.

पाकिस्तान के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री फवाद चौधरी ने नेशनल असेंबली में एक बहस के दौरान आधिकारिक ब्यान देते हुए कहा की, “हमने हिंदुस्तान को घुस कर मारा. पुलवामा में हमारी कामयाबी, इमरान खान के नेतृत्व में इस देश की कामयाबी है. आप और हम सभी इस कामयाबी का हिस्सा हैं.”

फवाद चौधरी का यह ब्यान तब आया जब पाकिस्तान के एक वरिष्ठ विपक्षी नेता अयाज सादिक ने संसद में इमरान खान की सरकार की आलोचना करते हुए कहा था की, “एक बैठक में विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कहा था कि, ‘यदि भारतीय वायु सेना के विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान को नहीं छोड़ा जाता तो भारत ‘रात नौ बजे’ पाकिस्तान पर हमला कर देगा’ और जब कुरैशी यह कह रहे थे तब पाकिस्तानी सेना के प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा के पसीने छूट रहे थे और उनके पैर कांप रहे थे.”

आपको बता दें की 26 फरवरी 2019 को पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वा क्षेत्र के बालाकोट में भारतीय वायु सेना द्वारा सर्जिकल स्ट्राइक करते हुए जैश ए मोहम्मद के आतंकी ठिकानों को नष्ट कर दिया था. उसके बाद 27 फरवरी को पाकिस्तान वायुसेना के कुछ F16 विमानों ने भारतीय सीमा में घुसने की कोशिश की और भारतीय वायु सेना के 37 वर्षीय अधिकारी अभिनंदन वर्धमान ने अपने मिग-21 से F16 को मार गिराया लेकिन इस दौरान उनका जहाज़ पाकिस्तानी सीमा में क्रैश कर गया.

उसके बाद भारतीय सरकार और सेना के सख्त तेवरों की बदौलत पाकिस्तान को एक मार्च को अभिनंदन वर्धमान भारत को वापिस सौंपना पड़ा था. मामला इंटरनेशनल कोर्ट में भी गया था और भारतीय सेना की माने तो वह युद्ध स्तर पर भी अभिनंदन को वापिस लाने को तैयार थी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here