पूर्व मलेशियन प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद ने फ्रांस में हमले को ठहराया सही, कहा-मुस्लिमों को फ्रांसीसी लोगों को मारने का अधिकार है

0
116
Former Malaysian Prime Minister Mahathir Mohamad called the attack in France right

फ्रांस के नीस शहर में स्थित एक चर्च पर हुए आतंकवादी हमले में 3 लोग मारे गए। हमले को पैगंबर मोहम्मद के कार्टून पर विवाद का नतीजा कहा जाता है। फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रॉन पर पैगंबर मोहम्मद के कार्टून और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के विवाद पर मलेशिया के पूर्व प्रधान मंत्री महाथिर मोहम्मद ने हमला किया है। इस दौरान महातिर मोहम्मद ने एक विवादित बयान दिया। महाथिर मोहम्मद ने फ्रांस में हत्याओं को सही ठहराया है।

इतना ही नहीं, महाथिर मोहम्मद ने यहां तक ​​कहा कि नाराज मुसलमानों को लाखों फ्रांस को मारने का अधिकार है। उन्होंने ट्वीट किया, “एक मुस्लिम के तौर पर मैं हत्या का समर्थन नहीं करूंगा लेकिन जहां मैं अभिव्यक्ति की आजादी में विश्वास करता हूं, मुझे नहीं लगता कि उसमें लोगों का अपमान करना शामिल होता है।”

फ्रांसीसी राष्ट्रपति मैक्रॉन पर हमला करते हुए, महाथिर ने लिखा, “मैक्रॉन यह नहीं दिखा रहे हैं कि वह सभ्य हैं। वे इस्लाम और मुसलमानों पर अपमानजनक स्कूल शिक्षक की हत्या का आरोप लगाकर पुराने विचार दिखा रहे हैं। यह इस्लाम की सीख नहीं है।”

उन्होंने आग का आह्वान किया, “हालांकि, धर्म से परे, गुस्साए लोग हत्या करते हैं। फ्रांस ने अपने इतिहास में लाखों लोगों की हत्या की है जिनमें से कई मुस्लिम थे। मुस्लिमों को गुस्सा होने और इतिहास में किए गए नरसंहारों के लिए फ्रांस के लाखों लोगों की हत्या करने का हक है।”

इस सब के बीच, सऊदी अरब में फ्रांस के वाणिज्य दूतावास में भी ऐसी घटना सामने आई है। यहां फ्रांस के वाणिज्य दूतावास के बाहर गार्ड्स को चाकू मार दिया गया था। आधिकारिक मीडिया के अनुसार, जेद्दा में हमलावर ने गार्ड पर ‘धारदार हथियार’ से हमला किया जिसके बाद उसे गिरफ्तार कर लिया गया। इन घटनाओं के तार पैगंबर मोहम्मद के कार्टून से जुड़े माने जाते हैं, जिन्हें मैक्रों ने अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के रूप में वर्णित किया, जबकि मुस्लिम देशों ने इस्लाम का अपमान किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here