कांग्रेस के गिरते स्तर को लेकर गाँधी परिवार पर ये क्या बोल गए कपिल सिब्बल

Kapil Sibbal Congress Bihar Election: बिहार विधानसभा चुनाव और अलग अलग राज्यों में हुए उप चुनावों के बाद आये रिजल्ट को लेकर कांग्रेस नेता इस वक़्त दो भागों में बट चुके हैं. एक भाग जो हार का जिम्मेदार पूरी तरह से EVM को बताकर अपनी छवि साफ़ और दुरस्त रखने की नाकाम कोशिश करने के प्रयास में हैं, वहीं दूसरा भाग यह कह रहा है की कांग्रेस पार्टी को अब गंभीर आत्ममंथन की जरूरत हैं. ऐसे में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और सुप्रीम कोर्ट के जाने माने वकील कपिल सिब्बल (Kapil Sibbal) ने मीडिया में बयान देते हुए कहा है की, "न सिर्फ बिहार, बल्कि देश के जिन भी हिस्सों में चुनाव हुए – उनके परिणामों से स्पष्ट है कि जनता ने कांग्रेस को एक प्रभावशाली विकल्प के रूप में देखना ही बंद कर दिया है." कपिल सिब्बल ने मीडिया में 2019 से लेकर 2020 तक हुए चुनावों में कांग्रेस की हारों का जिक्र किया. उन्होंने कहा की बीजेपी ने 2019 के बाद हर चुनाव में कांग्रेस को क्लीन स्वीप किया हैं और उन्होंने कहा की, "कांग्रेस इसे ‘जैसा चल रहा है, चलने दो’ की तरह ले रही है. नेतृत्व को लगता है कि सब ठीक है." कपिल सिब्बल ने कहा की इस बार उपचुनाव के दौरान उत्तर प्रदेश में कांग्रेस को 2 प्रतिशत भी वोट हासिल नहीं हुए वहीं गुजरात में हमारे 3 उम्मीदवारों की तो जमानत ही जब्त हो गयी. कपिल सिब्बल ने कहा की ऐसा भी नहीं है की हमें यह सब पहले पता नहीं था. दुःख इस बात का है की, सब कुछ जानते और समझते हुए भी हम कुछ नहीं कर पा रहें. कपिल सिब्बल ने कहा की पार्टी के कार्यकर्त्ता और पार्टी के नेताओं के बीच कोई तालमेल नहीं हैं. ऐसे में सबको पता है की गड़बड़ कहां हैं और इस गड़बड़ का कौन जिम्मेदार हैं. कांग्रेस ने पिछले छह सालों से चुनावों में मिली हार का आत्ममंथन नहीं किया. अगर पार्टी का नेर्तत्व ही आत्ममंथन करने को तैयार नहीं है तो फिर कौन करेगा. कपिल सिब्बल ने कहा की CWC की बैठक में आप अपने विचार नहीं रख सकते. 22 सदस्यों ने जो नॉमिनेशन प्रक्रिया और सुझाव दिए थे उसके बाद क्या हुआ आप सब जानते हैं. CWC को जब तक लोकतांत्रिक नहीं बनाया जाएगा और पार्टी के नेताओ द्वारा दिए गए सुझावों या विचारों पर बहस नहीं की जाएगी तब तक कांग्रेस का ग्राफ देशभर में इसी प्रकार से गिरता चला जाएगा.
 

कांग्रेस के गिरते स्तर को लेकर गाँधी परिवार पर ये क्या बोल गए कपिल सिब्बल

Kapil Sibbal Congress Bihar Election: बिहार विधानसभा चुनाव और अलग अलग राज्यों में हुए उप चुनावों के बाद आये रिजल्ट को लेकर कांग्रेस नेता इस वक़्त दो भागों में बट चुके हैं. एक भाग जो हार का जिम्मेदार पूरी तरह से EVM को बताकर अपनी छवि साफ़ और दुरस्त रखने की नाकाम कोशिश करने के प्रयास में हैं, वहीं दूसरा भाग यह कह रहा है की कांग्रेस पार्टी को अब गंभीर आत्ममंथन की जरूरत हैं. कांग्रेस के गिरते स्तर को लेकर गाँधी परिवार पर ये क्या बोल गए कपिल सिब्बल ऐसे में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और सुप्रीम कोर्ट के जाने माने वकील कपिल सिब्बल (Kapil Sibbal) ने मीडिया में बयान देते हुए कहा है की, "न सिर्फ बिहार, बल्कि देश के जिन भी हिस्सों में चुनाव हुए – उनके परिणामों से स्पष्ट है कि जनता ने कांग्रेस को एक प्रभावशाली विकल्प के रूप में देखना ही बंद कर दिया है." कपिल सिब्बल ने मीडिया में 2019 से लेकर 2020 तक हुए चुनावों में कांग्रेस की हारों का जिक्र किया. उन्होंने कहा की बीजेपी ने 2019 के बाद हर चुनाव में कांग्रेस को क्लीन स्वीप किया हैं और उन्होंने कहा की, "कांग्रेस इसे ‘जैसा चल रहा है, चलने दो’ की तरह ले रही है. नेतृत्व को लगता है कि सब ठीक है." कपिल सिब्बल ने कहा की इस बार उपचुनाव के दौरान उत्तर प्रदेश में कांग्रेस को 2 प्रतिशत भी वोट हासिल नहीं हुए वहीं गुजरात में हमारे 3 उम्मीदवारों की तो जमानत ही जब्त हो गयी. कपिल सिब्बल ने कहा की ऐसा भी नहीं है की हमें यह सब पहले पता नहीं था. दुःख इस बात का है की, सब कुछ जानते और समझते हुए भी हम कुछ नहीं कर पा रहें. कपिल सिब्बल ने कहा की पार्टी के कार्यकर्त्ता और पार्टी के नेताओं के बीच कोई तालमेल नहीं हैं. ऐसे में सबको पता है की गड़बड़ कहां हैं और इस गड़बड़ का कौन जिम्मेदार हैं. कांग्रेस ने पिछले छह सालों से चुनावों में मिली हार का आत्ममंथन नहीं किया. अगर पार्टी का नेर्तत्व ही आत्ममंथन करने को तैयार नहीं है तो फिर कौन करेगा. कांग्रेस के गिरते स्तर को लेकर गाँधी परिवार पर ये क्या बोल गए कपिल सिब्बल कपिल सिब्बल ने कहा की CWC की बैठक में आप अपने विचार नहीं रख सकते. 22 सदस्यों ने जो नॉमिनेशन प्रक्रिया और सुझाव दिए थे उसके बाद क्या हुआ आप सब जानते हैं. CWC को जब तक लोकतांत्रिक नहीं बनाया जाएगा और पार्टी के नेताओ द्वारा दिए गए सुझावों या विचारों पर बहस नहीं की जाएगी तब तक कांग्रेस का ग्राफ देशभर में इसी प्रकार से गिरता चला जाएगा.