महबूबा मुफ्ती ने कहा: तालिबान से सबक लेने की जरूरत भारत को, सुब्रमण्यम स्वामी ने दिया करारा जवाब

Mehbooba Mufti said: India needs to take a lesson from Taliban: भारतीय जनता पार्टी के राज सभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी (Subramanyam Swami) अक्सर अपने ट्वीट के लिए लोगों के बीच सुर्खियों में बने रहते हैं. मोदी सरकार के कटु आलोचक स्वामी ने शनिवार को जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती को लेकर एक ट्वीट किया. इस ट्वीट में स्वामी ने कहा कि जिस ने भी भाजपा-पीडीपी गठबंधन का सीएम मुफ्ती को बनाया था उसे अब माफी मांग लेनी चाहिए. उन्होंने ट्वीट कर लिखा,'महबूबा मुफ्ती (Mahbooba Mufti) को भाजपा पीडीपी गठबंधन का जम्मू कश्मीर का मुख्यमंत्री किसने बनाया था. वह अब जो राष्ट्र विरोधी बकवास कर रही है. उससे मैं यह मांग करता हूं कि जिसने भी यह निर्णय लिया था उससे इस हिमालई भूल के लिए सार्वजनिक रूप से माफी मांगने चाहिए.' उनके इस ट्वीट पर एक हरि नाम के यूजर ने लिखा,'हमने मुफ्ती के साथ सरकार बनाकर धारा 370 को खत्म कर दिया यह एक हिमालई सफलता थी.' https://twitter.com/Swamy39/status/1429047889767006216 सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि,'अनुच्छेद 370 को राष्ट्रपति की अधिसूचना द्वारा हटाया गया था. जम्मू-कश्मीर सरकार का इससे कोई भी लेना देना है क्या? क्या आप अनपढ़ हैं या मुफ्ती अनुयाई हैं?' रोहित नाम के एक यूजर ने लिखा,'जी हां मुक्ति के साथ सत्ता के लिए भाजपा का गठबंधन सबसे बड़ी गलती थी.' इस पर स्वामी लिखा,'गलती है, बहुत बड़ा बवंडर है.' गौरतलब है कि पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने केंद्र से अफगानिस्तान से सबक लेने के लिए कहा जहां अब तालिबान सत्ता पर काबिज हो चुका है और अमेरिका को बाल में पर मजबूर कर दिया है. महबूबा मुफ्ती ने साथ ही सरकार से जम्मू कश्मीर में बातचीत करने और 2019 में रद्द किए गए विशेष दर्जे को वापस करने का आग्रह भी किया है. महबूबा मुफ्ती की इस टिप्पणी पर भाजपा ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है और उन पर केंद्र शासित प्रदेश में जमीन खोने के बाद "घृणा की राजनीति" में लिप्त होने का आरोप लगाया है और कहा कि जो कोई भी भारत के खिलाफ साजिश करेगा उसे नष्ट कर दिया जाएगा. वहीं दूसरी ओर अफगानिस्तान में तालिबान द्वारा सत्ता पर काबिज करने का जिक्र करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने केंद्र को हमारी परीक्षा नहीं लेने की चेतावनी तक दे दी है और सरकार से अपने तरीके सुधारने एवं स्थिति को समझने और अपने पड़ोसी में क्या हो रहा है वह देखने के लिए कहा है.
 

महबूबा मुफ्ती ने कहा: तालिबान से सबक लेने की जरूरत भारत को, सुब्रमण्यम स्वामी ने दिया करारा जवाब

Mehbooba Mufti said: India needs to take a lesson from Taliban: भारतीय जनता पार्टी के राज सभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ( Subramanyam Swami) अक्सर अपने ट्वीट के लिए लोगों के बीच सुर्खियों में बने रहते हैं. मोदी सरकार के कटु आलोचक स्वामी ने शनिवार को जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती को लेकर एक ट्वीट किया. इस ट्वीट में स्वामी ने कहा कि जिस ने भी भाजपा-पीडीपी गठबंधन का सीएम मुफ्ती को बनाया था उसे अब माफी मांग लेनी चाहिए. उन्होंने ट्वीट कर लिखा,'महबूबा मुफ्ती ( Mahbooba Mufti) को भाजपा पीडीपी गठबंधन का जम्मू कश्मीर का मुख्यमंत्री किसने बनाया था. वह अब जो राष्ट्र विरोधी बकवास कर रही है. उससे मैं यह मांग करता हूं कि जिसने भी यह निर्णय लिया था उससे इस हिमालई भूल के लिए सार्वजनिक रूप से माफी मांगने चाहिए.' उनके इस ट्वीट पर एक हरि नाम के यूजर ने लिखा,'हमने मुफ्ती के साथ सरकार बनाकर धारा 370 को खत्म कर दिया यह एक हिमालई सफलता थी.' https://twitter.com/Swamy39/status/1429047889767006216 सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि,'अनुच्छेद 370 को राष्ट्रपति की अधिसूचना द्वारा हटाया गया था. जम्मू-कश्मीर सरकार का इससे कोई भी लेना देना है क्या? क्या आप अनपढ़ हैं या मुफ्ती अनुयाई हैं?' रोहित नाम के एक यूजर ने लिखा,'जी हां मुक्ति के साथ सत्ता के लिए भाजपा का गठबंधन सबसे बड़ी गलती थी.' इस पर स्वामी लिखा, 'गलती है, बहुत बड़ा बवंडर है.' गौरतलब है कि पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने केंद्र से अफगानिस्तान से सबक लेने के लिए कहा जहां अब तालिबान सत्ता पर काबिज हो चुका है और अमेरिका को बाल में पर मजबूर कर दिया है. महबूबा मुफ्ती ने साथ ही सरकार से जम्मू कश्मीर में बातचीत करने और 2019 में रद्द किए गए विशेष दर्जे को वापस करने का आग्रह भी किया है. महबूबा मुफ्ती की इस टिप्पणी पर भाजपा ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है और उन पर केंद्र शासित प्रदेश में जमीन खोने के बाद "घृणा की राजनीति" में लिप्त होने का आरोप लगाया है और कहा कि जो कोई भी भारत के खिलाफ साजिश करेगा उसे नष्ट कर दिया जाएगा. वहीं दूसरी ओर अफगानिस्तान में तालिबान द्वारा सत्ता पर काबिज करने का जिक्र करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने केंद्र को हमारी परीक्षा नहीं लेने की चेतावनी तक दे दी है और सरकार से अपने तरीके सुधारने एवं स्थिति को समझने और अपने पड़ोसी में क्या हो रहा है वह देखने के लिए कहा है.