नीरज चोपड़ा ने कर दिया कीर्तिमान स्थापित, 100 साल का सूखा हुआ खत्म, दिलाया पहला गोल्ड

भारतीय एथलीट नीरज चोपड़ा (Indian Athelte Neeraj Chopra) ने टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olmypics) में इतिहास रच दिया है। नीरज ने जेवलिन थ्रो प्रतियोगिता में टोक्यो ओलंपिक (Javelin throw in Tokyo olympics) में भारत का पहला स्वर्ण पदक जीता है। क्वालीफाइंग दौर की तरह ही, नीरज ने फाइनल में शानदार प्रदर्शन किया और एथलेटिक्स में 100 साल के पदक के सूखे को समाप्त किया। नीरज ने फाइनल मैच में अपना पहला 87.03 मीटर थ्रो फेंका और सोने की उम्मीदें जगाईं. इसके बाद दूसरे प्रयास में नीरज ने 87.58 मीटर का थ्रो फेंककर गोल्ड मेडल हासिल किया। नीरज ने इससे पहले क्वालीफाइंग दौर में भी अपने प्रदर्शन से सनसनी मचा दी थी। शीर्ष पर रहते हुए, उन्होंने पहले ही प्रयास में 86.65 मीटर का थ्रो फेंका और आसानी से 83.65 के योग्यता स्तर को पार कर लिया। नीरज पहले ही एशियन गेम्स, कॉमनवेल्थ गेम्स और एशियन चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल जीत चुके हैं और यही वजह है कि पूरे देश की निगाहें उन पर टिकी थीं. यह टोक्यो ओलंपिक में भारत का पहला स्वर्ण पदक है और अब कुल पदकों की संख्या सात हो गई है, जिसमें एक स्वर्ण, दो रजत और चार कांस्य पदक शामिल हैं। कुश्ती में बजरंग पुनिया ने एकतरफा मुकाबले में कजाकिस्तान के दौलत नियाजबेकोव को हराकर कांस्य पदक जीता। नीरज ओलंपिक खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाले भारत के केवल दूसरे खिलाड़ी हैं। उनसे पहले 2008 में अभिनव बृंदा ने भारत को निशानेबाजी में गोल्ड मेडल दिलाया था। एथलेटिक्स में यह ओलंपिक खेलों में भारत का पहला स्वर्ण पदक है और इसी के साथ 23 वर्षीय नीरज चोपड़ा ने इतिहास रच दिया है। नीरज ने अपने पहले दो थ्रो में गोल्ड मेडल पक्का कर लिया था। बाकी एथलीटों ने बहुत कोशिश की, लेकिन वे नीरज के 87.58 मीटर के थ्रो को पार नहीं कर सके।
 

नीरज चोपड़ा ने कर दिया कीर्तिमान स्थापित, 100 साल का सूखा हुआ खत्म, दिलाया पहला गोल्ड

भारतीय एथलीट नीरज चोपड़ा (Indian Athelte Neeraj Chopra) ने टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olmypics) में इतिहास रच दिया है। नीरज ने जेवलिन थ्रो प्रतियोगिता में टोक्यो ओलंपिक (Javelin throw in Tokyo olympics) में भारत का पहला स्वर्ण पदक जीता है। क्वालीफाइंग दौर की तरह ही, नीरज ने फाइनल में शानदार प्रदर्शन किया और एथलेटिक्स में 100 साल के पदक के सूखे को समाप्त किया। नीरज ने फाइनल मैच में अपना पहला 87.03 मीटर थ्रो फेंका और सोने की उम्मीदें जगाईं. इसके बाद दूसरे प्रयास में नीरज ने 87.58 मीटर का थ्रो फेंककर गोल्ड मेडल हासिल किया। नीरज ने इससे पहले क्वालीफाइंग दौर में भी अपने प्रदर्शन से सनसनी मचा दी थी। शीर्ष पर रहते हुए, उन्होंने पहले ही प्रयास में 86.65 मीटर का थ्रो फेंका और आसानी से 83.65 के योग्यता स्तर को पार कर लिया। नीरज पहले ही एशियन गेम्स, कॉमनवेल्थ गेम्स और एशियन चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल जीत चुके हैं और यही वजह है कि पूरे देश की निगाहें उन पर टिकी थीं. यह टोक्यो ओलंपिक में भारत का पहला स्वर्ण पदक है और अब कुल पदकों की संख्या सात हो गई है, जिसमें एक स्वर्ण, दो रजत और चार कांस्य पदक शामिल हैं। कुश्ती में बजरंग पुनिया ने एकतरफा मुकाबले में कजाकिस्तान के दौलत नियाजबेकोव को हराकर कांस्य पदक जीता। नीरज ओलंपिक खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाले भारत के केवल दूसरे खिलाड़ी हैं। उनसे पहले 2008 में अभिनव बृंदा ने भारत को निशानेबाजी में गोल्ड मेडल दिलाया था। एथलेटिक्स में यह ओलंपिक खेलों में भारत का पहला स्वर्ण पदक है और इसी के साथ 23 वर्षीय नीरज चोपड़ा ने इतिहास रच दिया है। नीरज ने अपने पहले दो थ्रो में गोल्ड मेडल पक्का कर लिया था। बाकी एथलीटों ने बहुत कोशिश की, लेकिन वे नीरज के 87.58 मीटर के थ्रो को पार नहीं कर सके।