Tokyo Olympics: पीवी सिंधु ने किया निराश, सेमीफाइनल में हुई हार, अब करेगी इस मेडल के लिए मुकाबला

भारतीय महिला बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु को टोक्यो ओलंपिक के सेमीफाइनल में दुनिया की नंबर-1 चीनी ताइपे की ताई जू यिंग से 0-2 से हार का सामना करना पड़ा। रियो ओलंपिक की रजत पदक विजेता सिंधु भारत की सबसे बड़ी पदक की उम्मीद थीं और उन्होंने अब तक टोक्यो में जिस तरह का प्रदर्शन किया, उससे लग रहा था कि वह इस बार स्वर्ण पदक जीत सकती हैं। लेकिन इस हार से उनका सपना चकनाचूर हो गया। सिंधु को 40 मिनट तक चले मैच में जू यिंग से 18-21, 12-21 से हार का सामना करना पड़ा। सिंधु ने पहले गेम में बेहतर प्रदर्शन किया और शुरुआत में बढ़त बना ली लेकिन जू यिंग ने पहला गेम जीतकर वापसी की। इसके बाद सिंधु दूसरे गेम में कोई चुनौती पेश नहीं कर पाई और यह गेम भी हार गई। सिंधु भले ही स्वर्ण पदक की दौड़ से बाहर हो गई हों लेकिन उनके पास अभी भी कांस्य पदक जीतने का मौका है। सिंधू का सामना रविवार को कांस्य पदक के मुकाबले में चीन की ही बिंग जिओ से होगा। बिंग जिओ हमवतन चेन यू फी से एक और सेमीफाइनल 1-2 से हार गए। सिंधु ने पांच साल पहले रियो ओलंपिक में रजत पदक जीता था। फाइनल में उन्हें स्पेन की कैरोलिना मारिन से हार का सामना करना पड़ा था। इस बार सिंधु से रियो के प्रदर्शन से बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद की जा रही थी. लेकिन ऐसा हो नहीं पाया। पीवी सिंधु का परिवार हैदराबाद में बैठकर सेमीफाइनल मैच देख रहा था. मैच के बाद उसके पिता पीवी रमना ने कहा, "यह सब तब होता है जब कोई खिलाड़ी लय में नहीं आ पाता। कल वह अच्छी लय में थी और अकाने यामागुची को हराकर वापस आई। आज ताई त्ज़ु यिंग ने उसे वापस आने के लिए कहा।" कोई मौका नहीं दिया।"
 

Tokyo Olympics: पीवी सिंधु ने किया निराश, सेमीफाइनल में हुई हार, अब करेगी इस मेडल के लिए मुकाबला

भारतीय महिला बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु को टोक्यो ओलंपिक के सेमीफाइनल में दुनिया की नंबर-1 चीनी ताइपे की ताई जू यिंग से 0-2 से हार का सामना करना पड़ा। रियो ओलंपिक की रजत पदक विजेता सिंधु भारत की सबसे बड़ी पदक की उम्मीद थीं और उन्होंने अब तक टोक्यो में जिस तरह का प्रदर्शन किया, उससे लग रहा था कि वह इस बार स्वर्ण पदक जीत सकती हैं। लेकिन इस हार से उनका सपना चकनाचूर हो गया। सिंधु को 40 मिनट तक चले मैच में जू यिंग से 18-21, 12-21 से हार का सामना करना पड़ा। सिंधु ने पहले गेम में बेहतर प्रदर्शन किया और शुरुआत में बढ़त बना ली लेकिन जू यिंग ने पहला गेम जीतकर वापसी की। इसके बाद सिंधु दूसरे गेम में कोई चुनौती पेश नहीं कर पाई और यह गेम भी हार गई। सिंधु भले ही स्वर्ण पदक की दौड़ से बाहर हो गई हों लेकिन उनके पास अभी भी कांस्य पदक जीतने का मौका है। सिंधू का सामना रविवार को कांस्य पदक के मुकाबले में चीन की ही बिंग जिओ से होगा। बिंग जिओ हमवतन चेन यू फी से एक और सेमीफाइनल 1-2 से हार गए। सिंधु ने पांच साल पहले रियो ओलंपिक में रजत पदक जीता था। फाइनल में उन्हें स्पेन की कैरोलिना मारिन से हार का सामना करना पड़ा था। इस बार सिंधु से रियो के प्रदर्शन से बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद की जा रही थी. लेकिन ऐसा हो नहीं पाया। पीवी सिंधु का परिवार हैदराबाद में बैठकर सेमीफाइनल मैच देख रहा था. मैच के बाद उसके पिता पीवी रमना ने कहा, "यह सब तब होता है जब कोई खिलाड़ी लय में नहीं आ पाता। कल वह अच्छी लय में थी और अकाने यामागुची को हराकर वापस आई। आज ताई त्ज़ु यिंग ने उसे वापस आने के लिए कहा।" कोई मौका नहीं दिया।"