समाजवादी पार्टी की महिला कार्यकर्ता को कर रहे थे परेशान, तो योगी आदित्यनाथ ने कर दिया यह काम

Yogi Adityanath did this work: 2020 उत्तर प्रदेश (UP) में छोटे-छोटे चुनाव की बयार लेकर आया है. यहां पर त्रिस्तरीय पंचायती चुनाव (Panchayat Election) के माध्यम से जिला पंचायत सदस्य. क्षेत्र पंचायत सदस्य, ग्राम प्रधान जैसे पदों पर चुनाव हुए फिर जिला पंचायत अध्यक्ष के लिए चुनाव प्रक्रिया पूर्ण हुई और अब शनिवार को प्रखंड चुनाव पंचायत प्रमुख पद पर चुनाव हो रहे हैं. गौरतलब है कि सोशल मीडिया के इस युग में बहुत तरह की अफवाह है फैलाई जाती हैं और अगर चुनाव में इन अफवाहों को हवा मिल जाती है तो अप्रिय घटनाओं का उदय हो जाता है. ब्लॉक प्रमुख चुनाव में यह हिंसा एक प्रायोजित घटना हो सकती है और और उसी पर सख्ती दिखाते हुए सीएम योगी (Yogi) सरकार हर उस वायरल वीडियो पर पैनी नजर बनाए हुए हैं. घटना कोई भी हो उससे सिर्फ राज्य की बदनामी होती है. इसी कारण सीएम योगी ने अपने अधिकारियों को त्वरित कार्रवाई करने के आदेश दे दिए हैं. ध्यान देने वाली बात यह है कि एक वायरल वीडियो में ऐसा ही कुछ देखने को मिला, जिसमें लखीमपुर खीरी के पसगवां क्षेत्र में नामांकन वाले दिन प्रस्तावक के तौर पर प्रत्याशी के साथ नामांकन की प्रक्रिया पूरी करने जा रही महिला अनीता यादव के साथ बदसलूकी करते हुए उनके कपड़ों को खींचा गया ताकि वो प्रस्तावक की भूमिका न निभा सकें. बता दें अनीता यादव सपा प्रत्याशी ऋतु सिंह के नामांकन में उनके साथ प्रस्तावक बनकर नामांकन करवाने जा रही थी. इस मामले पर सीएम योगी के निर्देश पर एसपी विजय धुल ने पसगवां थाना प्रभारी आदर्श कुमार सिंह, मैगलगंज थाना इंस्पेक्टर (क्राइम) हनुमान प्रसाद, चौकी इंचार्ज बरवर महेश गंगवार, चौकी इंचार्ज जेबीगंज दुर्वेश गंगवार और उचौलिया चौकी इंचार्ज उग्रसेन को निलंबित कर दिया है. इस दौरान पूरे राज्य में नामांकन के दौरान सभी घटनाओं पर कार्यवाहियों को अंजाम देते हुए सीएम योगी के निर्देशानुसार राज्य पुलिस सभी अभियुक्तों के नाम प्राथमिकी दर्ज़ कर उनपर दंडात्मक कार्यवाही सुनिश्चित कर रही है, क्योंकि लखीमपुर खीरी वाले मामले में राजनीति गर्म हो चुकी थी और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी, बसपा सुप्रीमो मायावती ने तीखे वार करते हुए योगी सरकार पर सवाल खड़े कर दिये थे. गौरतलब है कि इस बात पर अखिलेश यादव ने कहा है कि, “अपने आप को अनुशासित पार्टी होने का दावा करने वाली बीजेपी के गुंडों ने महिला की इज्जत को तार-तार किया है. हमें दुख है कि चुनाव जीतने के लिए भाजपा के लोग इस स्तर तक उतर आए हैं. जिन्होंने महिला के साथ दुर्व्यवहार किया, सब भाजपा के गुंडे हैं. भाजपा ने पहले जिला पंचायत अध्यक्ष और अब ब्लॉक प्रमुख का चुनाव जीतने के लिए पूरे प्रदेश के हर ब्लॉक में नंगा नाच और खुली गुंडागर्दी की.”
 

समाजवादी पार्टी की महिला कार्यकर्ता को कर रहे थे परेशान, तो योगी आदित्यनाथ ने कर दिया यह काम

Yogi Adityanath did this work: 2020 उत्तर प्रदेश ( UP) में छोटे-छोटे चुनाव की बयार लेकर आया है. यहां पर त्रिस्तरीय पंचायती चुनाव ( Panchayat Election) के माध्यम से जिला पंचायत सदस्य. क्षेत्र पंचायत सदस्य, ग्राम प्रधान जैसे पदों पर चुनाव हुए फिर जिला पंचायत अध्यक्ष के लिए चुनाव प्रक्रिया पूर्ण हुई और अब शनिवार को प्रखंड चुनाव पंचायत प्रमुख पद पर चुनाव हो रहे हैं. गौरतलब है कि सोशल मीडिया के इस युग में बहुत तरह की अफवाह है फैलाई जाती हैं और अगर चुनाव में इन अफवाहों को हवा मिल जाती है तो अप्रिय घटनाओं का उदय हो जाता है. ब्लॉक प्रमुख चुनाव में यह हिंसा एक प्रायोजित घटना हो सकती है और और उसी पर सख्ती दिखाते हुए सीएम योगी ( Yogi) सरकार हर उस वायरल वीडियो पर पैनी नजर बनाए हुए हैं. घटना कोई भी हो उससे सिर्फ राज्य की बदनामी होती है. इसी कारण सीएम योगी ने अपने अधिकारियों को त्वरित कार्रवाई करने के आदेश दे दिए हैं. ध्यान देने वाली बात यह है कि एक वायरल वीडियो में ऐसा ही कुछ देखने को मिला, जिसमें लखीमपुर खीरी के पसगवां क्षेत्र में नामांकन वाले दिन प्रस्तावक के तौर पर प्रत्याशी के साथ नामांकन की प्रक्रिया पूरी करने जा रही महिला अनीता यादव के साथ बदसलूकी करते हुए उनके कपड़ों को खींचा गया ताकि वो प्रस्तावक की भूमिका न निभा सकें. बता दें अनीता यादव सपा प्रत्याशी ऋतु सिंह के नामांकन में उनके साथ प्रस्तावक बनकर नामांकन करवाने जा रही थी. इस मामले पर सीएम योगी के निर्देश पर एसपी विजय धुल ने पसगवां थाना प्रभारी आदर्श कुमार सिंह, मैगलगंज थाना इंस्पेक्टर (क्राइम) हनुमान प्रसाद, चौकी इंचार्ज बरवर महेश गंगवार, चौकी इंचार्ज जेबीगंज दुर्वेश गंगवार और उचौलिया चौकी इंचार्ज उग्रसेन को निलंबित कर दिया है. इस दौरान पूरे राज्य में नामांकन के दौरान सभी घटनाओं पर कार्यवाहियों को अंजाम देते हुए सीएम योगी के निर्देशानुसार राज्य पुलिस सभी अभियुक्तों के नाम प्राथमिकी दर्ज़ कर उनपर दंडात्मक कार्यवाही सुनिश्चित कर रही है, क्योंकि लखीमपुर खीरी वाले मामले में राजनीति गर्म हो चुकी थी और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी, बसपा सुप्रीमो मायावती ने तीखे वार करते हुए योगी सरकार पर सवाल खड़े कर दिये थे. गौरतलब है कि इस बात पर अखिलेश यादव ने कहा है कि, “अपने आप को अनुशासित पार्टी होने का दावा करने वाली बीजेपी के गुंडों ने महिला की इज्जत को तार-तार किया है. हमें दुख है कि चुनाव जीतने के लिए भाजपा के लोग इस स्तर तक उतर आए हैं. जिन्होंने महिला के साथ दुर्व्यवहार किया, सब भाजपा के गुंडे हैं. भाजपा ने पहले जिला पंचायत अध्यक्ष और अब ब्लॉक प्रमुख का चुनाव जीतने के लिए पूरे प्रदेश के हर ब्लॉक में नंगा नाच और खुली गुंडागर्दी की.”