अफगानिस्तान में तालिबान को लगा जोरदार झटका, विरोधियों ने कराया अपने तीन जिलों को तालिबानियों से आजाद

Taliban got a big blow in Afghanistan: अफगानिस्तान पर कब्जा करने के बाद तालिबान के सरकार बनाने के प्रयासों को झटका लगना शुरू हो गया है. दरअसल, तालिबान को विरोधियों से बड़ा झटका लगा है. वहां की स्थानीय न्यूज एजेंसी के अनुसार, स्थानीय विरोधी गुटों ने तालिबान के कब्जे से बाघलान प्रांत के तीन जिलों को आजाद करा लिया है. इससे अफगानिस्तान में सरकार बनाने के तालिबान के प्रयासों को बहुत बड़ा झटका लगा है. बता दें कि अफगानिस्तान (Afganistan) की स्थानीय न्यूज एजेंसी अशवाका के अनुसार, विरोधी गुटों ने तालिबान (Taliban) के कब्जे से बाघलान प्रांत के 3 जिलों पोल ए हेसर, हेड सहाल व बानो को आजाद करा लिया है. रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस लड़ाई में कई तालिबान लड़ाके भी मारे गए हैं. वहीं सूत्रों का कहना है कि तालिबान के सभी प्रमुख बड़े नेता इस वक्त राजधानी काबुल में डेरा जमाए हुए है. ऐसे में विभिन्न इलाकों में तालिबान लड़ाके नेतृत्वविहीन स्थिति में हैं. जिसका फायदा स्थानीय विरोधी गुटों को मिल रहा है. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, स्थानीय विरोधी गुट अब तेजी से डेह सलाह जिले की ओर आगे बढ़ रहे हैं. बता दें कि इस लड़ाई में तालिबान के कई लड़ाके मारे गए हैं. जबकि, घायलों की संख्या मृत लड़ाकों से भी ज्यादा बतायी जा रही है. रिपोर्ट के मुताबिक, स्थानीय लोगों की बढ़ती ताकत से तालिबान के लड़ाके घबराए हुए हैं. चर्चा तेज है कि विद्रोही गुट अगर ऐसे ही हमले करते रहे, तो आने वाले दिनों में तालिबान के लिए मुश्किलें बढ़ सकती हैं. गौरतलब है कि अफगानिस्तान का एकमात्र प्रांत पंजशीर पर तालिबान आजतक कब्जा नहीं कर पाया है. चारों तरफ से पहाड़ियों से घिरा यह प्रांत इस बार भी तालिबान के खिलाफ विद्रोह की आवाज बुलंद करता हुआ दिख रहा है. अफगानिस्तान के उपराष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह ने खुद को अफगान का कार्यवाहक राष्ट्रपति घोषित कर दिया है और वे अहमद शाह मसूद के बेटे अहमद मसूद और बल्ख प्रांत के पूर्व गवर्नर अता मुहम्मद नूर के साथ मिलकर विद्रोहियों का नेतृत्व कर रहे हैं. वहीं दूसरी ओर जलालाबाद में तो बुधवार को एक मीनार पर लगे तालिबानी झंडे को नीचे उतार दिया गया और उसकी जगह अफगानिस्तान का झंडा फहराया गया. गौरतलब है कि तालिबान के कब्जे के साथ ही अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी देश छोड़कर भाग गए हैं. वहीं दूसरी ओर, उपराष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह अपने गढ़ यानी पंजशीर प्रांत चले गए. माना जा रहा है कि तालिबान के खिलाफ विद्रोह का पंजशीर से ही बुलंद हो सकता है. वही चर्चा यह भी है कि अमरुल्लाह सालेह अब अपने कमांडर अहमद शाह मसूद की जगह ले सकते हैं.
 

अफगानिस्तान में तालिबान को लगा जोरदार झटका, विरोधियों ने कराया अपने तीन जिलों को तालिबानियों से आजाद

Taliban got a big blow in Afghanistan: अफगानिस्तान पर कब्जा करने के बाद तालिबान के सरकार बनाने के प्रयासों को झटका लगना शुरू हो गया है. दरअसल, तालिबान को विरोधियों से बड़ा झटका लगा है. वहां की स्थानीय न्यूज एजेंसी के अनुसार, स्थानीय विरोधी गुटों ने तालिबान के कब्जे से बाघलान प्रांत के तीन जिलों को आजाद करा लिया है. इससे अफगानिस्तान में सरकार बनाने के तालिबान के प्रयासों को बहुत बड़ा झटका लगा है. बता दें कि अफगानिस्तान ( Afganistan) की स्थानीय न्यूज एजेंसी अशवाका के अनुसार, विरोधी गुटों ने तालिबान ( Taliban) के कब्जे से बाघलान प्रांत के 3 जिलों पोल ए हेसर, हेड सहाल व बानो को आजाद करा लिया है. रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस लड़ाई में कई तालिबान लड़ाके भी मारे गए हैं. वहीं सूत्रों का कहना है कि तालिबान के सभी प्रमुख बड़े नेता इस वक्त राजधानी काबुल में डेरा जमाए हुए है. ऐसे में विभिन्न इलाकों में तालिबान लड़ाके नेतृत्वविहीन स्थिति में हैं. जिसका फायदा स्थानीय विरोधी गुटों को मिल रहा है. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, स्थानीय विरोधी गुट अब तेजी से डेह सलाह जिले की ओर आगे बढ़ रहे हैं. बता दें कि इस लड़ाई में तालिबान के कई लड़ाके मारे गए हैं. जबकि, घायलों की संख्या मृत लड़ाकों से भी ज्यादा बतायी जा रही है. रिपोर्ट के मुताबिक, स्थानीय लोगों की बढ़ती ताकत से तालिबान के लड़ाके घबराए हुए हैं. चर्चा तेज है कि विद्रोही गुट अगर ऐसे ही हमले करते रहे, तो आने वाले दिनों में तालिबान के लिए मुश्किलें बढ़ सकती हैं. गौरतलब है कि अफगानिस्तान का एकमात्र प्रांत पंजशीर पर तालिबान आजतक कब्जा नहीं कर पाया है. चारों तरफ से पहाड़ियों से घिरा यह प्रांत इस बार भी तालिबान के खिलाफ विद्रोह की आवाज बुलंद करता हुआ दिख रहा है. अफगानिस्तान के उपराष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह ने खुद को अफगान का कार्यवाहक राष्ट्रपति घोषित कर दिया है और वे अहमद शाह मसूद के बेटे अहमद मसूद और बल्ख प्रांत के पूर्व गवर्नर अता मुहम्मद नूर के साथ मिलकर विद्रोहियों का नेतृत्व कर रहे हैं. वहीं दूसरी ओर जलालाबाद में तो बुधवार को एक मीनार पर लगे तालिबानी झंडे को नीचे उतार दिया गया और उसकी जगह अफगानिस्तान का झंडा फहराया गया. गौरतलब है कि तालिबान के कब्जे के साथ ही अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी देश छोड़कर भाग गए हैं. वहीं दूसरी ओर, उपराष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह अपने गढ़ यानी पंजशीर प्रांत चले गए. माना जा रहा है कि तालिबान के खिलाफ विद्रोह का पंजशीर से ही बुलंद हो सकता है. वही चर्चा यह भी है कि अमरुल्लाह सालेह अब अपने कमांडर अहमद शाह मसूद की जगह ले सकते हैं.