सुब्रमण्यम स्वामी से पूछा क्या है हिंदुत्व की स्क्रिप्ट? तो कुछ ऐसा आया जवाब

अपने एक कार्यक्रम के दौरान सुब्रमण्यम स्वामी की भिड़ंत प्रकाश राज से हो गई. हालांकि इस बहस में सुब्रमण्यम स्वामी प्रकाश राज पर भारी पड़ते दिखे. इस कार्यक्रम के बाद टाइम्स नाउ के नाविक कुमार ने जब उनको सवाल दागे तो उन्होंने उनके जवाब पर लोग हंस पड़े हिंदुत्व के मुद्दे पर आप प्रकाश राज को सहमत कर पाए तो इसके जवाब में स्वामी ने कहा उन्हें कोई कन्वींस नहीं कर सकता क्योंकि वह खुद से ही सहमत नहीं है उन्हें पता ही नहीं है कि वह क्या बोल रहे हैं. अपनी इस बातचीत के दौरान उन्होंने साफ कह दिया था कि सभी लोगों को जाति से ऊपर उठकर हिंदुत्व के नाम पर वोट करना चाहिए. इसके साथ उन्होंने कहा कि कांग्रेस अल्पसंख्यकों का पक्ष ले रही है तो हमें हिंदुत्व की राजनीति करनी ही चाहिए, जिससे बहुमत हासिल हो. सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा मैं प्रकाश राज को दोष नहीं दूंगा क्योंकि वह स्क्रिप्ट पढ़ने के आदि हैं और यहां कोई स्क्रिप्ट नहीं थी. आगे नाविक ने पूछा कि हिंदुत्व की स्क्रिप्ट क्या है. इस प्रश्न के जवाब पर उन्होंने कहा सभी धर्म भगवान तक पहुंचने का रास्ता बताते हैं, कर्म ही आपके साथ जाते हैं, पूर्व जन्म की अवधारणा. यही हिंदुत्व के तीन मुख्य बिंदु हैं. सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि कर्नाटक की बात करें तो लिंगानुपात की बात करने वाले लोग भी फेल हो गए हैं. स्वामी ने कहा कि भाजपा उन्हीं को टिकट देगी जो जीत सकता है. स्वामी ने आगे यह भी कहा कि मैं चाहता हूं कि मीडिया ज्यादा दोस्ताना व्यवहार करें. मेरी बेटी भी मीडिया में है इसलिए मुझे मीडिया से बात करना अच्छा लगता है. गौरतलब है कि भाजपा सरकार की आलोचना के बाद प्रकाश राज और स्वामी को एक ही कार्यक्रम में बुलाया गया था. इस कार्यक्रम में बहस के बाद प्रकाश राज ने हालांकि खुद ट्वीट करके यह स्वीकार किया कि उन्हें अभी बहुत कुछ सीखना है. उन्होंने माना था कि स्वामी उन पर भारी साबित हुए.
 

सुब्रमण्यम स्वामी से पूछा क्या है हिंदुत्व की स्क्रिप्ट? तो कुछ ऐसा आया जवाब

अपने एक कार्यक्रम के दौरान सुब्रमण्यम स्वामी की भिड़ंत प्रकाश राज से हो गई. हालांकि इस बहस में सुब्रमण्यम स्वामी प्रकाश राज पर भारी पड़ते दिखे. इस कार्यक्रम के बाद टाइम्स नाउ के नाविक कुमार ने जब उनको सवाल दागे तो उन्होंने उनके जवाब पर लोग हंस पड़े हिंदुत्व के मुद्दे पर आप प्रकाश राज को सहमत कर पाए तो इसके जवाब में स्वामी ने कहा उन्हें कोई कन्वींस नहीं कर सकता क्योंकि वह खुद से ही सहमत नहीं है उन्हें पता ही नहीं है कि वह क्या बोल रहे हैं. अपनी इस बातचीत के दौरान उन्होंने साफ कह दिया था कि सभी लोगों को जाति से ऊपर उठकर हिंदुत्व के नाम पर वोट करना चाहिए. इसके साथ उन्होंने कहा कि कांग्रेस अल्पसंख्यकों का पक्ष ले रही है तो हमें हिंदुत्व की राजनीति करनी ही चाहिए, जिससे बहुमत हासिल हो. सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा मैं प्रकाश राज को दोष नहीं दूंगा क्योंकि वह स्क्रिप्ट पढ़ने के आदि हैं और यहां कोई स्क्रिप्ट नहीं थी. आगे नाविक ने पूछा कि हिंदुत्व की स्क्रिप्ट क्या है. इस प्रश्न के जवाब पर उन्होंने कहा सभी धर्म भगवान तक पहुंचने का रास्ता बताते हैं, कर्म ही आपके साथ जाते हैं, पूर्व जन्म की अवधारणा. यही हिंदुत्व के तीन मुख्य बिंदु हैं. सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि कर्नाटक की बात करें तो लिंगानुपात की बात करने वाले लोग भी फेल हो गए हैं. स्वामी ने कहा कि भाजपा उन्हीं को टिकट देगी जो जीत सकता है. स्वामी ने आगे यह भी कहा कि मैं चाहता हूं कि मीडिया ज्यादा दोस्ताना व्यवहार करें. मेरी बेटी भी मीडिया में है इसलिए मुझे मीडिया से बात करना अच्छा लगता है. गौरतलब है कि भाजपा सरकार की आलोचना के बाद प्रकाश राज और स्वामी को एक ही कार्यक्रम में बुलाया गया था. इस कार्यक्रम में बहस के बाद प्रकाश राज ने हालांकि खुद ट्वीट करके यह स्वीकार किया कि उन्हें अभी बहुत कुछ सीखना है. उन्होंने माना था कि स्वामी उन पर भारी साबित हुए.