14 साल पहले बाइडेन भारत के साथ किया था वादा, 2020 में मिला मौका

0
124

अमेरिका (America) के लोगों ने ट्रम्प को वाइट हाउस से बाहर निकाल दिया हैं और उनकी जगह जो बाइडेन (Joe Biden) को अपना राष्टपति बनाया हैं. ऐसे में भारत के लोगों में यह उत्सुकता काफी है की जो बाइडेन, ट्रम्प से अच्छे भारत के दोस्त साबित होंगे या नहीं. तो इस सवाल का जवाब उन्होंने 2006 के एक इंटरव्यू में पहले ही दिया हुआ था.

जो बाइडेन ने 2006 यानी आज से लगभग 14 साल पहले एक इंटरव्यू में कहा था की, “मेरा ख्वाब है कि 2020 में दुनिया के दो सबसे करीबी मुल्क भारत और अमेरिका हों. अगर ऐसा होता है तो दुनिया पहले से अधिक सुरक्षित होगी.” उस वक़्त उन्हें इस बात का भले ही अंदाज़ा न हो की 2020 में वह खुद अमेरिका के राष्ट्रपति बन जायेंगे और उन्हें इस दोस्ती को निभाने का खूब मौका मिलेगा.

2016 में अमेरिकी चुनावों में अगर हिलेरी क्लिंटन जीत जाती तो इस बार भी डेमोक्रेट्स पार्टी की तरफ से हिलेरी को राष्ट्रपति कैंडिडेट घोसित किया जाता. लेकिन हिलेरी के हारने की वजह से डेमोक्रेट्स ने इस बार जो बाइडेन को राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाया और बहुत ही कम मार्जिन से डोनाल्ड ट्रम्प से अमेरिकी राज्यों में अपनी पार्टी के लिए सीट्स जीतने में कामयाब हुए, जिससे अंत में वह अमेरिका के 46वें राष्ट्रपति बन सके.

इससे पहले चुनाव प्रचार के दौरान डोनाल्ड ट्रंप की भारत के प्रति की गयी टिप्पणी का भी जिक्र करते हुए जो बाइडेन ने कहा था की, “राष्ट्रपति ट्रंप भारत को गंदा बता रहे हैं. दोस्तों के बारे में ऐसे नहीं बोलते हैं और जलवायु परिवर्तन जैसी वैश्विक चुनौतियों से आप इस तरह से नहीं निपट सकते. हम भारत और अमेरिका के बीच संबंधों को महत्व देना जारी रखेंगे. ट्रंप के लिए फोटो खिंचवाने का मौका है, मगर मेरे लिए ये काम पूरा करने के लिए है.”

ओबामा काल में बाइडेन ही थे जिन्होंने अलग-अलग पद पर रहते हुए भारत और अमेरिका के बीच रिश्ते मजबूत करने का काम किया था. ट्रंप भारत के लिए चीन और पाकिस्तान मुद्दे पर भले ही ज्यादा अच्छे रहें हो, लेकिन व्यापार के मुद्दे पर ट्रंप ने भारत को हमेशा पीछे धकेलने की कोशिश की हैं. फिर चाहे ईरान के ऊपर सैंशन्स लगा कर चाबहार पोर्ट का प्रोजेक्ट खतरे में डालना हो या फिर भारतियों के लिए वीज़ा नियमों को सख्त बनाना हो.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here