स्कूलों में सोनिया गाँधी की जीवनी पढ़ाने पर अड़ी कांग्रेस, मुख्यमंत्री को लिखा पत्र

0
343

कांग्रेस नेता अक्सर ऐसे कारनामों के लिए जाने जाते हैं जिन कारनामों को कोई राजा भी करने से पहले सोचता होगा. जैसे खुद को ही भारत रत्न दे देना, पार्टी अध्यक्ष बदलने के नाम पर कभी माँ तो कभी बेटे का अध्यक्ष बनना. कई बार तो कांग्रेस में पार्टी अध्यक्ष को लेकर ऐसे भी चुनाव हुए जिसमें गाँधी परिवार के सदस्य के सामने कोई व्यक्ति ही खड़ा नहीं हुआ.

ताज़ा बात करें तो अब कांग्रेस पार्टी के एक राष्ट्रीय प्रवक्ता ने तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव को पत्र लिखते हुए स्कूलों में सोनिया गांधी की जीवनी को लेकर पढ़ाये जाने की मांग तेज़ कर दी हैं. कांग्रेस पार्टी ने यह मांग सोनिया गांधी के 74वें जन्मदिन के दिन की थी. इस पत्र को डॉक्टर श्रवण दसोजू नाम के कांग्रेस के प्रवक्ता द्वारा लिखा गया हैं.

अपने पत्र में कांग्रेस प्रवक्ता डॉक्टर श्रवण दसोजू लिखते हैं की, “सम्मान और कृतज्ञता के प्रतीक के रूप में, आप से अनुरोध है कि स्कूल सिलेबस में श्रीमती सोनिया गांधी के जीवन को सम्मिलित करने के लिए अपने अधिकारियों को निर्देशित करें. अपने महान योगदान और प्रतिबद्धता के लिए, श्रीमती सोनिया गांधी को हम सभी को दिए गए एक यादगार उपहार के लिए सम्मानित करना हमारी प्रमुख ज़िम्मेदारी है.”

आपको बता दें की पार्टी के नेतृत्व वाला संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (UPA) ने ही तेलंगाना को अलग राज्य बनाया था. पार्टी के प्रवक्ता ने मुख्यमंत्री को याद दिलवाया की अपने खुद यह ब्यान दिया था की तेलंगाना का सपना केवल और केवल सोनिया गांधी की वजह से पूरा हो सका हैं.

2014 से पहले तेलंगाना को लेकर बहुत सारे संघर्ष हुए, इसकी लम्बे समय से मांग थी. आखिरकार जब राज्य में तेलंगाना राष्ट्र समिति (TRS) ने सत्ता में आने के लिए 63 सीटें जीतीं और 21 कांग्रेस ने विधानसभा सीटों पर जीत दर्ज़ की. 2 जून 2014 की रात को विधानसभा के दरवाजे बंद कर दिए और विपक्षी नेताओं के हंगामें के तेलंगाना को अलग राज्य का दर्ज़ा दे दिया गया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here