मादा की तलाश में 9 महीने में तय किया 3000 किलोमीटर का सफर

0
75

भारत के एक टाइगर ने महाराष्ट्र के कुछ जिलों से होते हुए, तेलंगाना को पार कर लिया है. इस तरह से उसने 9 महीने में लगभग 3000 किलोमीटर का सफर कर लिया है, ऐसा करने वाला यह पहला टाइगर बन गया है. इस टाइगर का नाम ‘वॉकर’ रखा गया है, अपने नाम के हिसाब से इसने मात्र 9 महीने में विश्व रिकॉर्ड ही बना डाला.

आपको बता दें की वॉकर को पिछले साल एक ट्रैकिंग डिवाइस लगाया गया था, इसे सेटेलाइट की मदद से हर घंटे ट्रैक किया जाता था. जिससे पता चला की यह टाइगर जंगलों से होता हुआ लगभग 3000 किलोमीटर का सफर पार कर चूका हैं. इसके इलावा इसने 5000 अलग अलग लोकेशंस पर आराम भी फ़रमाया.

पिछले साल की सर्दियों और इस साल की गर्मियों या कह लीजिये लॉकडाउन के दौरान यह वॉकर नाम का टाइगर नदियों, हाईवे, खेत-खलिहानों में अपना सफर करता रहा. महाराष्ट्र में कॉटन भारी मात्रा में उगाया जाता हैं और इसी की वजह से वॉकर को खेतों में छिपने की भरपूर जगह मिली.

बताया जा रहा है की वॉकर हमेशा रात को ही सफर करता था, वह दिन में आराम करता और जंगली सुवरों को अपना शिकार बनाता. महाराष्ट्र के सीनियर फॉरेस्ट अधिकारी नितिन काकोडकर ने मीडिया से बातचीत करते हुए बताया की, “ये बाघ शायद शिकार, बसने के लिए क्षेत्र या किसी साथी की तलाश में था. उसके पास कोई क्षेत्रीय मुद्दे नहीं हैं और उसके पास पर्याप्त शिकार हैं.”

टाइगर मादा को लेकर अपने विचार रखते हुए नितिन ने कहा की, “यहां बाघिन को लेकर आने का फैसला आसान नहीं होगा क्योंकि ये एक बड़ा अभायरण्य नहीं है. इसके आसपास खेत-खलिहान मौजूद हैं और अगर यहां वॉकर बच्चे पैदा करता है तो वे इस जगह से अलग-थलग होने की कोशिश करेंगे और छोटे अभयारण्य होने के चलते उन्हें दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है.”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here