धर्मांतरण विरोधी कानून के पक्ष में उतरी दिवंगत वाजिद खान की पत्नी

0
115

कुछ समय पहले ही बॉलीवुड के मशहूर संगीतकार वाजिद खान का निधन हो गया था. अब उनकी पत्नी कमलरूख खान ने अंतरधार्मिक विवाह मामले पर अपने विचार रखते हुए सोशल मीडिया में तहलका मचा दिया हैं. इसके लिए उन्होंने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट का सहारा लिया और एक बड़े से कैप्शन में अपने विचार लोगों के सामने रखे.

वाजिद खान की पत्नी कमलरूख खान लिखती हैं की, “जिओ और जीने दो एक ही धर्म होना चाहिए जिसका हम सभी पालन करते हैं.” कमलरूख खान ने इस धर्मांतरण विरोधी कानून का राष्ट्रीयकरण करने के लिए भी सरकार से अपील की हैं. कमलरुख खान ने बताया की उनके रिश्ते वाजिद खान से बहुत अच्छे थे, लेकिन धर्मांतरण के प्रतिरोध ने उनके रिश्ते में दरार पैदा कर दी थी.

उन्होंने इसके पक्ष में अपने साथ हुए व्यवहार को साझा करते हुए बताया की, “मैं पारसी हूँ और वह मुस्लिम था. हम वही थे जिसे आप ‘कॉलेज स्वीटहार्ट्स’ कहेंगे. आखिरकार जब हमारी शादी हुई, तो हमने स्पेशल मैरिजेज एक्ट के तहत प्यार के लिए शादी की.” लेकिन बाद में मुझे धर्म के नाम पर पूर्वाग्रह, पीड़ा और भेदभाव का बहुत ज्यादा सामना करना पड़ा था.

कमलरुख खान अपनी परवरिश को लेकर कहती हैं की, “मेरी सरल पारसी परवरिश अपने मूल्य प्रणाली में बहुत लोकतांत्रिक थी. विचार की स्वतंत्रता को प्रोत्साहित किया गया और स्वस्थ बहसें आदर्श थीं. सभी स्तरों पर शिक्षा को प्रोत्साहित किया गया. हालाँकि, विवाह के बाद की स्वतंत्रता, शिक्षा और लोकतांत्रिक मूल्य प्रणाली मेरे पति के परिवार के लिए सबसे बड़ी समस्या थी. एक शिक्षित, विचारशील, स्वतंत्र राय वाली महिला स्वीकार्य नहीं थी और धर्मांतरण के दबाव का विरोध करना अपवित्र था.”

अपने तलाक के बारे में बताते हुए उन्होंने लिखा की, “मेरी गरिमा और आत्म-सम्मान ने मुझे उनके और उनके परिवार के लिए इस्लाम में परिवर्तित होने के लिए झुकने की अनुमति नहीं दी. इस विषाक्त मजहब के खिलाफ उनकी लड़ाई संगीतकार के साथ तलाक के साथ खत्म हुई. मैं तबाह हो गई थी, विश्वासघात महसूस किया और भावनात्मक रूप से टूट चुकी थी, लेकिन फिर भी मैंने खुद को और अपने बच्चों को सँभाला.”

अब आप सोच सकते हैं की अगर एक राष्ट्रीय और बॉलीवुड के जाने संगीतकार की पत्नी को इस तरह के भेदभाव और मानसिक दबाव का सामना करना पड़ सकता हैं तो जो विवाह भागकर या फिर नाम छुपाकर किये जाते हैं. उन लड़कियों को कैसी पीड़ा का सामना करना पड़ता होगा? भागकर शादी करने के उपरान्त लड़की के पास वापिस घर जाने का रास्ता भी नहीं बचता. इसीलिए बीजेपी इस कानून को लाइ है, जिसका विरोध कांग्रेस कर रही हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here