किसान रैली में पहुंचे पत्रकार, किसान बोले बिल का हमें नहीं पता नहीं लेकिन मोदी अच्छे नहीं

0
386

केंद्र सरकार द्वारा लाये गए इन कृषि सुधार से जुड़े तीन बिलों के विरोध में राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के सिंघू और टिकरी बॉर्डर पर पंजाब से आये हुए किसान डेरा जमाकर बैठे हुए हैं. आपको जानकार हैरानी होगी की पंजाब के किसान भारत के सबसे समृद्ध किसान हैं और पंजाब की सरकार ने एक कानून बनाया है जिसके तहत यह तीनों बिल पंजाब में लागू नहीं होंगे.

इसके बावजूद पंजाब के किसान दिल्ली कूच कर चुके हैं और जंतर मंतर पर जाकर धरना देने की मांग कर रहें हैं. यह किसान अनिश्चितकाल तक धरने की तैयारी के साथ दिल्ली के बॉर्डर पर बैठे हैं और इनके पास दो से तीन महीने तक का राशन भी मजूद हैं. इसके इलावा दिल्ली की मस्जिदों ने इन किसानों के लिए अपने भोजन भंडार खोल दिए हैं.

जिस तरह से विरोध हो रहा है और जिन बिलों का विरोध हो रहा हैं जब उनसे जुडी जानकारी लेने के लिए मीडिया के कर्मचारी इन किसानों के पास गए तो वह भी हैरान रह गए. मीडिया के सामने कोई भी किसान इस बिल से जुडी ठीक तरह से जानकारी देने में नाकाम रहा, कुछ लोगों ने जानकारी दी भी तो वह वत्स ऐप में फॉरवर्ड हुई फेक न्यूज़ टाइप थी.

ऐसे में सवाल यह उठता है की क्या इन किसानों को सच में पता भी है की यह तीन बिल क्या हैं? क्योंकि KNOW THE NATION के कई वीडियो सामने आये हैं जिसमें किसानों के साथ उनके पत्रकारों की बातचीत हुई हैं. ऐसे में जब एक पत्रकार ने ‘प्रदर्शनकारी’ से पूछा कि आप यहाँ पर किस कानून का विरोध करने के लिए आए हैं तो वो बोले हम तो अपने रोज़गार के लिए यहाँ आये हैं.

एक ने कहा की मैं किसानों के साथ हूँ, जब उनसे पूछा की किसान प्रदर्शन क्यों कर रहें हैं तो वह यह बताने में असमर्थ नज़र आया. एक ने कहा की मोदी पुरे देश की किसानों की जमीन छीनकर अम्बानी और अडानी को दे रहा हैं. यहाँ तक की जब किसान एकता संघ के छात्र विंग के नेता से सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा हम मोदी को सत्ता से उतारना चाहते हैं, हालाँकि वह तीनों बिलों के नाम बताने में भी असमर्थ था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here