Tooter की मुश्किलें बढ़ी, PM मोदी समेत कई नेताओं के फ़र्ज़ी अकाउंट किये वेरीफाई

0
21

भारतीय सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म Tooter की मुश्किलें अब बढ़ने वाली हैं. Tooter एक भारतीय Social Media App है जो की ट्विटर Twitter को सीधा-सीधा कॉम्पिटिशन देता हैं. लेकिन अब इस App को लेकर ख़बरें आ रही हैं की इस App में मजूद भारत के प्रधानमंत्री और गृह मंत्री समेत तमाम राजनेताओं के अकाउंट फ़र्ज़ी हैं.

खैर फ़र्ज़ी अकाउंट आपको सभी सोशल मीडिया ऐप (Social Media App) पर देखने को मिलेंगे, लेकिन बाकी सोशल मीडिया ऐप में आपको एक अकाउंट ऐसा दिखेगा जिसके आगे Blue Tick लगा होगा, जिससे लोगों को पता चलता है की यह अकाउंट असली हैं. लेकिन Tooter के साथ ऐसा नहीं था, उसने तमाम राजनेताओं के उन एकाउंट्स को वेरीफाई किया जो फ़र्ज़ी थे.

बीजेपी आईटी सेल (BJP IT Cell) अमित मालवीय ने कुछ दिन पहले यह खुलासा किया था की, टूटर ने पीएम मोदी, पीएमओ और अमित शाह समेत अन्य मंत्रियों के वेरिफाइड अकाउंट खुद ही बनाकर खुद ही वेरीफाई कर डालें हैं. इसको लेकर अब Tooter के CEO ने बीजेपी आईटी सेल अमित मालवीय को उनकी कंपनी को बदनाम करने का आरोप लगा दिया हैं.

अमित मालवीय के खुलासे के बाद Tooter के CEO ने इस मसले पर देखने के लिए 24 घंटे का समय लिया और फिर उन्होंने अमित मालवीय को तीन ट्वीट के जरिये जवाब दिया. जिसके बाद उन्होंने अपने तीन ट्वीट्स के जरिए उल्टा बीजेपी आईटी सेल अमित मालवीय को ही आत्मनिर्भर भारत और नरेंद्र मोदी जी आहत करने वाला बता दिया.

Tooter के Ceo इस बात का जवाब देने से परहेज़ कर रहें हैं की आखिर उनके प्लेटफार्म पर कैसे किसी प्रभावशाली नेता का वेरिफाइड अकाउंट (Verified Account) हो सकता हैं. ऐसे फ़र्ज़ी अकाउंट (Fake Account) को चलाने वाला एक ट्वीट पुरे देश में हंगामा खड़ा कर सकता हैं, यह बहुत ही खतरनाक कदम हैं इन सबके बावजूद उन्होंने फ़र्ज़ी अकाउंट को बंद करने या फिर वेरिफाइड टिक (Verified Tick) हटाने की कार्यवाही करने की बजाए वह उल्टा Amit Malviya को ही ट्वीट डिलीट करने का आग्रह करते नज़र आये.

Tooter क्या है उसको अच्छे से जानने के लिए उसके ही एक पेज में आपको देखना होगा जिसमें लिखा है की, “हमारा मानना ​​है कि भारत में एक स्वदेशी सोशल मीडिया नेटवर्क होना चाहिए. इसके बिना हम अमेरिकी ट्विटर इंडिया कंपनी की सिर्फ एक डिजिटल कॉलोनी हैं, और यह किसी भी तरह से ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी के अधीन होने से अलग नहीं है. टूटर हमारा स्वदेशी आंदोलन 2.0 है. इस आंदोलन में हमसे जुड़ें. हमसे जुड़ें!”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here