2020 की भविष्यवाणी हुई सच, अब 2021 की बारी, होगा विनाश

1555 में प्रकाशित हुए फ्रांस में जन्मे माइकल डी नास्त्रेदमस की लिखी पुस्तक 'लेस प्रोफेटिज' के पहले संस्करण में उन्होंने दुनिया को लेकर बहुत सारी भविष्यवाणियां की थी. 6338 भविष्यवाणियों में 70 प्रतिशत भविष्यवाणियां सही साबित हुई, जिसमें अमेरिका में हुए 9/11 हमले से लेकर 2020 में आने वाली महामारी तक का जिक्र था. ऐसे में जब पूरी दुनिया इस महामारी से जूझ रही हैं, तब हर कोई यह जानने के लिए उत्सुक है की 2021 का साल कैसा होगा. भविष्य जानने के लिए इस वक़्त पूरी दुनिया फिर एक बार माइकल डी नास्त्रेदमस की लिखी पुस्तक 'लेस प्रोफेटिज' में लिखी भविष्वाणियों पर निर्भर हैं. आपको बता दें की अगर नास्त्रेदमस की साल 2021 की भविष्यवाणी सच साबित हुई तो यह 2020 की महामारी तो उसके सामने कुछ भी नहीं लगेगी. क्योंकि नास्त्रेदमस ने 2021 के लिए भविष्यवाणी करते हुए लिखा था की एक रशियन वैज्ञानिक ऐसा जैविक हथियार और वायरस विकसित करेगा जो इंसानों को ज़ोम्बी में बदल देगा. नास्त्रेदमस ने 2021 को पृथ्वी के सर्वनाश से जुड़ा पहला साल बताया हैं. उन्होंने कहा है की 2021 में महामारी, अकाल, भूकंप और बिमारियों के चलते मानव सभ्यकता को एहसास होगा की अब पृथ्वी पर उनके पास ज्यादा समय नहीं बचा. नास्त्रेदमस यह भी लिखा है की प्राकृतिक संसाधनों के लिए लोग एक से दूसरी जगह पलायन करना शुरू कर देंगे. नासा 2009 KF1 नाम के एक एस्टेरॉयड पर अपनी नज़र बनाये हुए हैं. जो सीधा पृथ्वीं की और बढ़ रहा हैं, नास्त्रेदमस भविष्यवाणी के अनुसार 2021 में एक एस्टेरॉयड पृथ्वीं से टकरा भी सकता हैं. ऐसे में नास्त्रेदमस की भविष्वाणी और नासा द्वारा 2009 KF1 नाम के एक एस्टेरॉयड पर चिंता व्यवक्त करने के बीच में लोग कड़ियाँ जोड़ रहें हैं. नासा के वैज्ञानिकों का मानना हैं की अगर यह 2009 KF1 नाम का एस्टेरॉयड पृथ्वी से टकराता हैं तो इसकी ताकत 1945 में हिरोशिम पर अमेरिका द्वारा गिराए गए परमाणु बस से करीब 15 गुना ज्यादा होगी. फिलहाल इसके टकराने की संभावना कम हैं लेकिन वैज्ञानिक इसपर अपनी नज़र बनाये हुए हैं, जिससे अगर भविष्य में उन्हें खतरा लगे तो वह पहले से टकराने के स्थान और समय का अनुमान लगा सके.
 

2020 की भविष्यवाणी हुई सच, अब 2021 की बारी, होगा विनाश

1555 में प्रकाशित हुए फ्रांस में जन्मे माइकल डी नास्त्रेदमस की लिखी पुस्तक 'लेस प्रोफेटिज' के पहले संस्करण में उन्होंने दुनिया को लेकर बहुत सारी भविष्यवाणियां की थी. 6338 भविष्यवाणियों में 70 प्रतिशत भविष्यवाणियां सही साबित हुई, जिसमें अमेरिका में हुए 9/11 हमले से लेकर 2020 में आने वाली महामारी तक का जिक्र था. 2020 की भविष्यवाणी हुई सच, अब 2021 की बारी, होगा विनाश ऐसे में जब पूरी दुनिया इस महामारी से जूझ रही हैं, तब हर कोई यह जानने के लिए उत्सुक है की 2021 का साल कैसा होगा. भविष्य जानने के लिए इस वक़्त पूरी दुनिया फिर एक बार माइकल डी नास्त्रेदमस की लिखी पुस्तक 'लेस प्रोफेटिज' में लिखी भविष्वाणियों पर निर्भर हैं. आपको बता दें की अगर नास्त्रेदमस की साल 2021 की भविष्यवाणी सच साबित हुई तो यह 2020 की महामारी तो उसके सामने कुछ भी नहीं लगेगी. क्योंकि नास्त्रेदमस ने 2021 के लिए भविष्यवाणी करते हुए लिखा था की एक रशियन वैज्ञानिक ऐसा जैविक हथियार और वायरस विकसित करेगा जो इंसानों को ज़ोम्बी में बदल देगा. नास्त्रेदमस ने 2021 को पृथ्वी के सर्वनाश से जुड़ा पहला साल बताया हैं. उन्होंने कहा है की 2021 में महामारी, अकाल, भूकंप और बिमारियों के चलते मानव सभ्यकता को एहसास होगा की अब पृथ्वी पर उनके पास ज्यादा समय नहीं बचा. नास्त्रेदमस यह भी लिखा है की प्राकृतिक संसाधनों के लिए लोग एक से दूसरी जगह पलायन करना शुरू कर देंगे. नासा 2009 KF1 नाम के एक एस्टेरॉयड पर अपनी नज़र बनाये हुए हैं. जो सीधा पृथ्वीं की और बढ़ रहा हैं, नास्त्रेदमस भविष्यवाणी के अनुसार 2021 में एक एस्टेरॉयड पृथ्वीं से टकरा भी सकता हैं. ऐसे में नास्त्रेदमस की भविष्वाणी और नासा द्वारा 2009 KF1 नाम के एक एस्टेरॉयड पर चिंता व्यवक्त करने के बीच में लोग कड़ियाँ जोड़ रहें हैं. 2020 की भविष्यवाणी हुई सच, अब 2021 की बारी, होगा विनाश नासा के वैज्ञानिकों का मानना हैं की अगर यह 2009 KF1 नाम का एस्टेरॉयड पृथ्वी से टकराता हैं तो इसकी ताकत 1945 में हिरोशिम पर अमेरिका द्वारा गिराए गए परमाणु बस से करीब 15 गुना ज्यादा होगी. फिलहाल इसके टकराने की संभावना कम हैं लेकिन वैज्ञानिक इसपर अपनी नज़र बनाये हुए हैं, जिससे अगर भविष्य में उन्हें खतरा लगे तो वह पहले से टकराने के स्थान और समय का अनुमान लगा सके.