इस वजह से पश्चमी बंगाल में रद्द हो सकता है ममता बनर्जी का नामांकन

पश्चमी बंगाल में जैसे जैसे चुनाव पास आते जा रहें हैं, चुनावी घमासान और आरोप प्रत्यारोप एक दूसरे पर जमकर लगाए जा रहें हैं. नंदीग्राम इस बार पश्चमी बंगाल की हॉट सीट हैं, यहाँ पर TMC के दो बड़े दिग्गज नेता एक दूसरे के आमने सामने हैं. खैर एक नेता अब BJP में शामिल हो चुके हैं तो सुवेंदु अधिकारी को हराने के लिए ममता बनर्जी ने नंदीग्राम में अपना चुनावी पर्चा भर दिया हैं. ममता बनर्जी ने नंदीग्राम में जब अपना नामांकन भरा तो उन्होंने अपने ऊपर किसी भी प्रकार का कोई आपराधिक केस दर्ज़ न होने की बात कही. वहीं सुवेंदु अधिकारी का कहना है की ममता बनर्जी पर अभी कुल 6 आपराधिक मामले दर्ज़ हैं, ऐसे में चुनाव आयोग को गलत जानकारी मुहैया करवाने के जुर्म में ममता बनर्जी का नामांकन खारिज होना चाहिए. सुवेंदु अधिकारी ने खुलासा करते हुए कहा की उनके खिलाफ 1 आपराधिक मामला CBI के पास लंबित हैं. 5 आपराधिक मामले 2018 में उनके खिलाफ शुरू हुए थे ऐसे में कुल 6 आपराधिक मामले उनके खिलाफ चल रहें हैं और वो कह रही हैं की मेरे खिलाफ कोई आपराधिक मामला दर्ज़ नहीं हैं. सुवेंदु अधिकारी नंदीग्राम में विधायक है और पश्चमी बंगाल में लगभग 40 सीटों पर सुवेंदु अधिकारी का दबदबा माना जाता हैं. ममता बनर्जी इसी नंदीग्राम में अपने पुराने साथी को हराने के लिए पहुंची हैं और सुवेंदु अधिकारी ने दावा किया है की वह ममता बनर्जी को 50000 से अधिक वोटों से हरा देंगे. आपको बता दें की सुवेंदु अधिकारी ने सुप्रीम कोर्ट के उस फैसले का भी जिक्र किया है जिसमें सुप्रीम कोर्ट ने कहा था की अगर किसी नेता पर आपराधिक मुक़दमा दर्ज़ होगा तो उसे इस बात को स्वीकार कर चुनाव आयोग को बताना होगा नहीं तो उसका नामांकन गलत जानकारी देने के आधार पर रद्द किया जा सकता हैं. अब क्योंकि ममता बनर्जी सच को छुपाया यानी गलत जानकारी दी हैं इसलिए उनका नामांकन रद्द किये जाने की मांग सुवेंदु अधिकारी द्वारा उठाई जा रही हैं.
 

इस वजह से पश्चमी बंगाल में रद्द हो सकता है ममता बनर्जी का नामांकन

पश्चमी बंगाल में जैसे जैसे चुनाव पास आते जा रहें हैं, चुनावी घमासान और आरोप प्रत्यारोप एक दूसरे पर जमकर लगाए जा रहें हैं. नंदीग्राम इस बार पश्चमी बंगाल की हॉट सीट हैं, यहाँ पर TMC के दो बड़े दिग्गज नेता एक दूसरे के आमने सामने हैं. खैर एक नेता अब BJP में शामिल हो चुके हैं तो सुवेंदु अधिकारी को हराने के लिए ममता बनर्जी ने नंदीग्राम में अपना चुनावी पर्चा भर दिया हैं. इस वजह से पश्चमी बंगाल में रद्द हो सकता है ममता बनर्जी का नामांकन ममता बनर्जी ने नंदीग्राम में जब अपना नामांकन भरा तो उन्होंने अपने ऊपर किसी भी प्रकार का कोई आपराधिक केस दर्ज़ न होने की बात कही. वहीं सुवेंदु अधिकारी का कहना है की ममता बनर्जी पर अभी कुल 6 आपराधिक मामले दर्ज़ हैं, ऐसे में चुनाव आयोग को गलत जानकारी मुहैया करवाने के जुर्म में ममता बनर्जी का नामांकन खारिज होना चाहिए. सुवेंदु अधिकारी ने खुलासा करते हुए कहा की उनके खिलाफ 1 आपराधिक मामला CBI के पास लंबित हैं. 5 आपराधिक मामले 2018 में उनके खिलाफ शुरू हुए थे ऐसे में कुल 6 आपराधिक मामले उनके खिलाफ चल रहें हैं और वो कह रही हैं की मेरे खिलाफ कोई आपराधिक मामला दर्ज़ नहीं हैं. सुवेंदु अधिकारी नंदीग्राम में विधायक है और पश्चमी बंगाल में लगभग 40 सीटों पर सुवेंदु अधिकारी का दबदबा माना जाता हैं. ममता बनर्जी इसी नंदीग्राम में अपने पुराने साथी को हराने के लिए पहुंची हैं और सुवेंदु अधिकारी ने दावा किया है की वह ममता बनर्जी को 50000 से अधिक वोटों से हरा देंगे. इस वजह से पश्चमी बंगाल में रद्द हो सकता है ममता बनर्जी का नामांकन आपको बता दें की सुवेंदु अधिकारी ने सुप्रीम कोर्ट के उस फैसले का भी जिक्र किया है जिसमें सुप्रीम कोर्ट ने कहा था की अगर किसी नेता पर आपराधिक मुक़दमा दर्ज़ होगा तो उसे इस बात को स्वीकार कर चुनाव आयोग को बताना होगा नहीं तो उसका नामांकन गलत जानकारी देने के आधार पर रद्द किया जा सकता हैं. अब क्योंकि ममता बनर्जी सच को छुपाया यानी गलत जानकारी दी हैं इसलिए उनका नामांकन रद्द किये जाने की मांग सुवेंदु अधिकारी द्वारा उठाई जा रही हैं.