बैंक के चेक के नीचे लिखे होते है 23 Digit, क्या आपको इसका मतलब पता है, नहीं पता तो जान लीजिये…

0
434
bank check

Bank Check: बैंक के चेक के नीचे लिखे होते है 23 Digit, क्या आपको इसका मतलब पता है, नहीं , पता तो जान लीजिये… एटीएम (ATM) और इंटरनेट बैंकिग (Internet Banking) के जमाने में आज भले ही लोग चेक का इस्तेमाल कम करने लगे हैं! पर अब भी बड़े लेनदेन के लिए चेक का ही इस्तेमाल किया जाता है! वैसे चेक के इस्तेमाल के वक्त तो आप अमाउंट, साइन, नाम और चेक नंबर जैसे डाटा का तो खास ध्यान रखते हैं! और पूरी एहतियात के साथ इन्हें भरते हैं!

Bank Check-

पर क्या आप अपने चेक से संबंधित कुछ और बातों को भी जानते और समझते हैं! जैसे कि चेक के नीचे दिए गए नंबरों का क्या मतलब होता है? जी हां, चेक में नीचे की तरफ दिए 23 Digit बेहद खास होते है! पर अधिकांश लोग इनका मतलब नहीं जानते हैं! अगर आपने अभी तक इस पर गौर नहीं किया! तो चलिए आज इसके बारे में जान लीजिए!

चेक की क्या वैल्यू होती है ये तो आप अच्छी तरह जानते हैं! ऐसे में कोई भी डाटा बेवजह कैसे हो सकता है! चेक पर लिखे हर विवरण का विशेष मतलब होता है! ऐसे में चेक में नीचे दिए गए ये 23 Digit के नम्बर भी बेहद खास होते हैं! जिनका मतलब आपको पता होना चाहिए! दरअसल चेक के नीचे लिखे इस नम्बर में 23 Digit 4 हिस्सो में बटे होते हैं! और हर हिस्सा या भाग का अपना महत्व होता है!

ये होता है इनका मतलब-

  1. जैसे कि नीचे लिखें इन नम्बर में से शुरुआती 6 Digit चेक नंबर कहलाते हैं जो कि रिकॉर्ड के लिए सबसे पहले देखा जाता है।
  2. इसके बाद अगले 9 डीजिट एमआईसीआर कोड (MICR Code) होते हैं जिनका मतलब होता है मैग्नेटिक इंक करैक्टर रिकग्निशन है! असल में इन 9 नंबर से पता चलता है कि ये चेक किस बैंक से जारी हुआ है! चेक रीडींग मशीन इसे पढ़ती है! ये MICR कोड भी तीन भागों में बंटा होता है!
  3. इसमें पहला भाग होता है सिटी कोड! यानी सीरीज की पहली 3 Digit असल में आपके शहर का पिन कोड होता है! और इससे पता चलता है कि चेक किस शहर का है!
  4. वहीं दूसरा भाग बैंक कोड होता है! और हर बैंक का अपना यूनीक कोड होता है! जैसे ICICI बैंक का 229 है और SBI का 002 होता है!
  5. जबकि MICR कोड का तीसरा भाग ब्रांच कोड (Branch code) होता है! ये ब्रांच कोड बैंक की हर शाखा का अलग-अलग होता है! ये कोड बैंक से जुड़े हर ट्रांजैक्शन में प्रयोग किया जाता है!
  6. एमआईसीआर कोड के बाद अगली 6 Digit, बैंक अकाउंट नंबर होती है! आपको बता दें ये नंबर सिर्फ नई चेक बुक्स में होता है, पहले के पुरानी चेक बुक्स में यह नंबर नहीं होता था!
  7. सबसे आखिरी की 2 Digit ट्रांस्जेक्शन आईडी (Transaction Id) होती है! जिसमें 29, 30 और 31 एट पार चेक को दर्शाते हैं जबकि 09, 10 और 11 लोकल चेक को! एट पार चेक का मतलब होता है! ऐसा चेक है जो कि पूरे देश में सबंधित बैंक के सभी ब्रांचों में स्वीकार्य होगा! और साथ ही बाहर के ब्रांचों में भी इसे क्लीयर करने के दौरान अतिरिक्त प्रभार नहीं लगता है!

और देखें –

जब एक लड़की को लोगों ने खुलेआम रोमांस करते पकड़ा, उसके बाद जो हुआ… देखे वीडियो!openly romance

income tax departmentअगर आपके पास Bitcoin है तो आपको हो सकता बड़ा नुक्सान, जानकारी के लिए पूरा पढ़े …