चीन ने डोकलाम के बाद 3 बार लद्दाख में की घुसपैठ, पैंगोंग झील में 6 किमी तक अंदर घुसे चीनी सैनिक..

0
229
china army enter 6 km near pangong lake

china army enter 6 km near pangong lake: डोकलाम के बाद भी चीन अपनी आदतों से बाज नहीं आ रहा है. और यही वजह है कि वो पूर्वोत्तर में कई जगहों पर लगातार घुसपैठ की कोशिश में लगा रहता है. अरुणाचल प्रदेश में भी कई बार चीनी सेना (PLA) ने भारतीय सीमा में दाखिल होने की जुर्रत की है. लेकिन सबसे ज्यादा PLA ने लद्दाख में अपने पांव पसारने की हिमाकत की.

इंडो तिब्बत सीमा पुलिस (ITBP) की रिपोर्ट में इसका खुलासा हुआ है. इस रिपोर्ट में साफ तौर पर कहा गया है कि चीन ने इस साल मार्च महीने में सबसे ज्यादा बार लद्दाख में घुसपैठ करने की कोशिश की.

china army enter 6 km near pangong lake

china army enter 6 km near pangong lake

कब कब चीन ने की घुसपैठ

इंडो तिब्बत सीमा पुलिस (ITBP) ने गृह मंत्रालय को जो अपनी रिपोर्ट दी है उस रिपोर्ट के मुताबिक़, चीन ने उत्तरी Pengong झील के पास गाड़ियों के जरिये 27 फ़रवरी, 6 मार्च और 9 मार्च 2018 को घुसपैठ की. ITBP ने चीन के इस घुसपैठ का विरोध भी दर्ज कराया. Pengong झील के पास 3 जगहों पर चीनी सेना ने घुसपैठ की, जिसमें 6 किलोमीटर अंदर तक चीनी सैनिक घुस आए थे.

और मार्च के महीने में तो तीन बार घुसपैठ की जा चुकी है. और अब भारतीय सेना को इसका जवाब देना चाहिए.

और पढ़े: दिल्‍ली से काठमांडू तक चलेगी ट्रेन, हो गया भारत और नेपाल के बीच समझौता..

ITBP के विरोध के बाद चीनी सैनिक वापस लौटे.

गौरतलब है कि भूटान के दावे वाले क्षेत्र डोकलाम में भारतीय सेना द्वारा चीन के निर्माण कार्य को रोकने की वजह से पिछले साल जून में दोनों सेनाएं एक-दूसरे के आमने-सामने आ गई थीं. डोकलाम भारतीय सीमा के काफी नजदीक है, जो इसके पूर्वोत्तर भाग को देश के बाकी हिस्से से जोड़ता है. यह गतिरोध 73 दिनों के बाद 28 अगस्त को समाप्त हुआ था.

भारत-चीन के बीच लंबी सीमा तीन क्षेत्रों में विभक्त है. पश्चिमी क्षेत्र लद्दाख और अक्साई चीन के बीच है, मध्य क्षेत्र उत्तराखंड और तिब्बत के बीच है और पूर्वी क्षेत्र तिब्बत को सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश से अगल करता है.

china army enter 6 km near pangong lake

हरकतों से बाज नहीं आ रहा चीन, अरुणाचल में बनाए PLA के कैंम्प और पोस्ट

बीते 31 मार्च को समाचार एजेंसी ANI ने एक के एक तस्वीरें जारी की थी जिसमें यह दिखाया गया था कि चीन ने अरुणाचल प्रदेश के किबिथु की दूसरी ओर टाटू में चीन ने infrastructure तैयार कर लिए हैं. इसमें चीनी सेना (PLA) के कैम्प और घर भी शामिल हैं. एक अन्य तस्वीर में यह भी दिखाया गया था कि चीन ने किस तरह से टाटू में दूरसंचार टावर खड़े कर लिए हैं.

और साथ में ऐसे पोस्ट भी बनाए हैं जहां से वे सर्विलांस उपकरणों के साथ वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर नजर बनाए हुए हैं.

और पढ़े: ISIS ने बनाए औरतों से बलात्कार करने के गंदे नियम …

——