T-20 के बाद 100-100 गेंद के मैच का फॉर्मेट, हुआ खुलासा !

0
257
100 Balls Format

100 Balls Format: T-20 के बाद 100-100 गेंद के मैच का फॉर्मेट, हुआ खुलासा ! भारतीय टीम के पूर्व कप्तान Sourav ganguly ने शुक्रवार को कहा कि इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ECB) द्वारा प्रस्तावित 100-बाल क्रिकेट टूर्नामेंट को लेकर सावधान रहने की जरूरूत है! हालांकि Ganguly देखना चाहते हैं! कि यह format किस तरह से अस्तित्व में आता है! Ganguly ने कहा, “यह हकीकत में 16.3 ओवर का खेल है! 50 over से क्रिकेट 20 over तक आया और अब लगभग साढ़े 16 over तक! देखते हैं कि क्या होता है! मुझे लगता है कि उनके दिमाग में overs की वजह 100 balls की संख्या है! हमें देखना होगा कि cricket और कितना छोटा होता है!”

100 Balls Format-

यहां अंडर-16 Cricket Tournament Pro Star League के मौके पर गांगुली ने कहा, “आपको इसे लेकर सावधान रहना होगा! ऐसा नहीं होना चाहिए की दर्शक आएं, पलक झपके और match खत्म! दर्शक खेल का लुत्फ लेना चाहते हैं जिसे एक निश्चित समय तक ले जाने का दबाव रहे और जिसमें उन्हें सही Ability और सही Winner दिखे!” Ganguly का मानना है कि खेल का प्रारुप जितना छोटा होता जाएगा, सर्वश्रेष्ठ और आम प्रतिभा के बीच अंतर कम होता जाएगा!

गांगुली ने कहा कि Real cricket तो टेस्ट मैच ही है! क्योंकि आपको एक ही ऊर्जा से दिन के आखिरी season तक गेंद फेंकनी होती है! उन्होंने कहा, “इसलिए test cricket अभी तक सबसे बड़ी चुनौती है! यहां आपको सुबह आकर गेंदबाजी करनी है फिर दिन में भी और फिर चायकाल के बाद भी और अंत तक आपको 140 kilometer per hour की रफ्तार से गेंदबाजी करनी होती है!”

भारत के सबसे सफल कप्तानों में गिने जाने वाले Ganguly ने कहा, “इसके लिए एकाग्रता की जरूरत होती है! तकनीक की जरूरत होती है! T-20 बना रहेगा क्योंकि इसके वित्तिय (Finance) कारण हैं और इसमें मजा भी आता है! लेकिन असल मजा लंबे प्रारुप में है!” April में 100-balls क्रिकेट का प्रस्ताव आया था जिसका मकसद युवा दर्शकों को आकर्षित करना है! हालांकि England के ही कुछ खिलाड़ी इस प्रारुप के खिलाफ हैं! ECB के निदेशक एंड्रयू स्ट्रास ने कहा था कि यह प्रस्ताव वह 2020 में लागू करेंगे! जिसका मकसद बच्चों और मांओं को ग्रीष्मकाल की छुट्टियों में खेल से जोड़ना होगा!

और देखें – अगर अपने बुजुर्गों को सताते है, तो अब खैर नहीं, आ गया है मोदी सरकार ये बड़ा फैसला !