शास्त्रों के अनुसार , इन लोगो की होती 100 वर्षो से पहले मृत्यु

0
293
scriptures people died 100 years

Scriptures people died 100 years: जब इंसान का जनम होता है तो उसके साथ उसकी मृत्यु तय हो जाती है और मृत्यु जीवन का एक सत्ये है पृत्वी पर हर जनम लेने वाला इंसान मृत्यु के आगोश में जाता है ! और फिर जनम लेना भी सत्य है इंसान यह जानते हुए भी एक न एक दिन मृत्यु आने ही है फिर भी आपस में लड़ता भिड़ता है और संपत्ति के लिए ही अपनों का गाला घोट देता है!

Scriptures people died 100 years-

मृत्यु के बाद हर इंसार अपना सब कुछ पृत्वी पर ही छोड़ कर चला जाता है चाहे वो आमिर हो या गरीब हो उससे फर्क नहीं पड़ता ! आप सब यह भी जानते होंगे की हर इंसार की मृत्यु अलग अलग तय की गयी है ! लेकिन कुछ लोग 100 वर्षो तक ज़िंदा रहते है और कुछ 100 वर्ष से पहले ही मृत्यु हो जाती है! लेकिन आप ये जानते है की 100 वर्षो से पहले मृत्यु ? आज के आर्टिकल में आपको यही बताएँगे!

किन लोगों को आती है 100 वर्षों से पहले मृत्यु


आपको बात बताते है जनम और मृत्यु इंसान की किस्मत में पहले से ही लिख दी जाती है ! जिस दिन इंसान अपनी माँ की कोक में आता तभी से उसकी मृत्यु तय हो जाती है फिर समय आने पर उसकी मृत्यु आनी ही है! फिर उसको भगवन भी नहीं टाल सकते! और इसके बारे आपको कुछ पता भी नहीं होगा! जिन व्यक्ति, में अभिमान , अधिक बोलना , तयाग की कमी , अपना ही पेट पालने में चिंता जो व्यक्ति अवगुण होते है! उनकी मृत्यु जल्दी आती है !

मृत्यु के लिए कही गई हैं ये बातें

बहुत से लोगो ने मृत्यु को लेकर अलग अलग बात की है! यह सोचना की अमुक वास्तु सदा बानी रहेगी यह सबसे बड़ा अज्ञान है ! जिस तरह पंछी अपने घोसले को छोड़ कर उजड़ जाते है! उसी तरह आत्मा भी अपने शरीर को छोड़कर चली जाती है !

हम आपको बता दे इन सबके अलावा संत कबीर और मद्भगवगीता में इसके बारे में बताया गया है! कबीर के अनुसार ‘वैद्द, धनवंतरि मरि गया, अमर भया नहीं कोय’ धनवंतरि जैसा वैद्द शायद ही कोई जन्मा हो! और वही गीता के अनुसार कहा गया कि ‘मृत्युश्ररति मदभयात्’. हमारा चिंतक कहता है, ‘मृत्यु को चाहे जितना भयानक और कठोर समझा जाए ये भगवान द्वारा विधान से अनुशासित है! यही सत्य है! जिसे हम झुकला नहीं सकते!

और देखें – लड़कियों की होती शादी से पहले ये ख्वाहिश, आपसे भी कर सकती कुछ ऐसी ही उम्मीद