अब चाहिए Passport अपने ही देश के इस शहर में जाने के लिए , ये रहा इसका कारण…

Passport strategy: अब चाहिए Passport अपने ही देश के इस शहर में जाने के लिए , ये रहा इसका कारण... सामान्यतया आपको पता है! कि किसी दूसरे देश में जाने के लिए ही पासपोर्ट की आवश्यकता पड़ती है! परन्तु अब देश के एक शहर में प्रवेश करने के लिए भी पासपोर्ट चाहिए होगा! जी हां, ये है बांग्लादेश के सीमा से लगा असम का धुबड़ी जिला! दरअसल ये शहर बांग्लादेश से घुसपैठ और तस्करी का मुख्य केन्द्र बन चुका था! ऐसे में केंद्र सरकार ने बांग्लादेश की सीमा पर तस्करी रोकने तथा अवैध घुसपैठियों पर काबू पाने के लिए! ये बड़ा कदम उठाया है! और बांग्लादेश सीमा के पास स्थित घुबड़ी क्षेत्र को आव्रजन चेक पोस्ट (Check post) बनाने का निर्णय लिया है! Passport strategy- सोमवार को केद्रीय गृह मंत्रालय ने इस आदेश की जानकारी दी है! जिसमे कहा गया है! कि पासपोर्ट 1950 नियम तीन के उप-नियम के आधार पर! केंद्र सरकार ने असम के धुबड़ी जिले में स्थित धुबड़ी नदी के बंदरगाह को! एक अधिकृत आव्रजन चेक पोस्ट के रूप में बनाने का फैसला ले रही है! ऐसे में इस चेक पोस्ट के जरिये! भारत में प्रवेश के लिए कोर्इ भी यात्री वैध दस्तावेज के साथ ही यात्रा कर सकता है! आपको बता दें कि धुबड़ी, ब्रह्मपुत्र और गदाधर नदियों से घिरा, गुवाहाटी और ढाका के लगभग बीच में स्थित, असम का एक छोटा-सा शहर है! ये शहर बांग्लादेश से घुसपैठ के साथ ही उग्रवादियों की गतिविधियों के लिए संवेदनशील क्षेत्र के रूप में जाना जाता है! हाल ही दिसम्बर माह में यहां उग्रवादियों की मौजूदगी की सूचना मिलने के बाद सेना और पुलिस की टीम ने जॉइंट सर्च ऑपरेशन (joint search operation) चलाया था! इस क्षेत्र की संवेदनशीलता को देखते हुए! केंद्र सरकार भी यहां सुरक्षा के इंतजामों के लिए खास सतर्क रहती है! और देखें - चुनौती : कुछ इस तरह बदल जाएगी भारतीय किसानों की तस्वीर…! इसी माह जनवरी से यहां सीमा की सुरक्षा के लिए ड्रोन सहित अत्याधुनिक उपकरणों की संस्थापित किए जा रहे हैं! ताकि सीमा पार से की जा रही सभी अवैध गतिविधियों पर बराबर नजर रखी जा सके! वहां जान-माल की सुरक्षा सुनिश्चित की जा सके! इससे पूर्व बीते वर्ष नवंबर माह केंद्रीय गृह राज्यमंत्री हंसराज गंगाराम अहिर ने धुबड़ी जिले के सीमावर्ती इलाके का दौरा कर! वहां अत्याधुनिक सुरक्षा उपकरणों को संस्थापित करने के लिए स्थल का निरीक्षण किया था! तीन तरफ से ब्रह्मपुत्र और गदाधर नदियों से घिरा, गुवाहाटी और ढाका के लगभग बीच में बसा, असम का एक छोटा-सा शहर है धुबड़ी! इलाके में उग्रवादियों की मौजूदगी की सूचना मिलने के बाद धुबरी थाने के अमेरभिता गांव में सेना और पुलिस की टीम ने जॉइंट सर्च ऑपरेशन चलाया! आपको बता दें कि धुबड़ी इलाका धुबड़ी जिले का मुख्यालय है! आैर ब्रह्मपुत्र आैर गदाधर नदी के किनारे स्थित है! यह गुवाहाटी से करीब 277 KM दूर है आैर यह मुस्लिम बहुल क्षेत्र है! आजादी के समय यहां सिर्फ 12 फीसदी मुसलमान थे! 2011 की जनगणना के मुताबिक धुबड़ी में अब 98.25 फीसदी मुसलमान है! और देखें - अगर आपके पास राशन कार्ड है, तो जरुर पढ़ें नहीं तो…? महात्मा गाँधी को मारने के बाद नाथूराम गोडसे का आखिरी बयान, आप सबको जरूर जानना चाहिए … Follow @Indiavirals
 

अब चाहिए Passport अपने ही देश के इस शहर में जाने के लिए , ये रहा इसका कारण…

Passport strategy: अब चाहिए Passport अपने ही देश के इस शहर में जाने के लिए , ये रहा इसका कारण... सामान्यतया आपको पता है! कि किसी दूसरे देश में जाने के लिए ही पासपोर्ट की आवश्यकता पड़ती है! परन्तु अब देश के एक शहर में प्रवेश करने के लिए भी पासपोर्ट चाहिए होगा! जी हां, ये है बांग्लादेश के सीमा से लगा असम का धुबड़ी जिला! दरअसल ये शहर बांग्लादेश से घुसपैठ और तस्करी का मुख्य केन्द्र बन चुका था! ऐसे में केंद्र सरकार ने बांग्लादेश की सीमा पर तस्करी रोकने तथा अवैध घुसपैठियों पर काबू पाने के लिए! ये बड़ा कदम उठाया है! और बांग्लादेश सीमा के पास स्थित घुबड़ी क्षेत्र को आव्रजन चेक पोस्ट (Check post) बनाने का निर्णय लिया है! अब चाहिए Passport अपने ही देश के इस शहर में जाने के लिए , ये रहा इसका कारण…

Passport strategy-

सोमवार को केद्रीय गृह मंत्रालय ने इस आदेश की जानकारी दी है! जिसमे कहा गया है! कि पासपोर्ट 1950 नियम तीन के उप-नियम के आधार पर! केंद्र सरकार ने असम के धुबड़ी जिले में स्थित धुबड़ी नदी के बंदरगाह को! एक अधिकृत आव्रजन चेक पोस्ट के रूप में बनाने का फैसला ले रही है! ऐसे में इस चेक पोस्ट के जरिये! भारत में प्रवेश के लिए कोर्इ भी यात्री वैध दस्तावेज के साथ ही यात्रा कर सकता है! आपको बता दें कि धुबड़ी, ब्रह्मपुत्र और गदाधर नदियों से घिरा, गुवाहाटी और ढाका के लगभग बीच में स्थित, असम का एक छोटा-सा शहर है! ये शहर बांग्लादेश से घुसपैठ के साथ ही उग्रवादियों की गतिविधियों के लिए संवेदनशील क्षेत्र के रूप में जाना जाता है! हाल ही दिसम्बर माह में यहां उग्रवादियों की मौजूदगी की सूचना मिलने के बाद सेना और पुलिस की टीम ने जॉइंट सर्च ऑपरेशन (joint search operation) चलाया था! इस क्षेत्र की संवेदनशीलता को देखते हुए! केंद्र सरकार भी यहां सुरक्षा के इंतजामों के लिए खास सतर्क रहती है!

और देखें - चुनौती : कुछ इस तरह बदल जाएगी भारतीय किसानों की तस्वीर…!

इसी माह जनवरी से यहां सीमा की सुरक्षा के लिए ड्रोन सहित अत्याधुनिक उपकरणों की संस्थापित किए जा रहे हैं! ताकि सीमा पार से की जा रही सभी अवैध गतिविधियों पर बराबर नजर रखी जा सके! वहां जान-माल की सुरक्षा सुनिश्चित की जा सके! इससे पूर्व बीते वर्ष नवंबर माह केंद्रीय गृह राज्यमंत्री हंसराज गंगाराम अहिर ने धुबड़ी जिले के सीमावर्ती इलाके का दौरा कर! वहां अत्याधुनिक सुरक्षा उपकरणों को संस्थापित करने के लिए स्थल का निरीक्षण किया था! अब चाहिए Passport अपने ही देश के इस शहर में जाने के लिए , ये रहा इसका कारण… तीन तरफ से ब्रह्मपुत्र और गदाधर नदियों से घिरा, गुवाहाटी और ढाका के लगभग बीच में बसा, असम का एक छोटा-सा शहर है धुबड़ी! इलाके में उग्रवादियों की मौजूदगी की सूचना मिलने के बाद धुबरी थाने के अमेरभिता गांव में सेना और पुलिस की टीम ने जॉइंट सर्च ऑपरेशन चलाया! आपको बता दें कि धुबड़ी इलाका धुबड़ी जिले का मुख्यालय है! आैर ब्रह्मपुत्र आैर गदाधर नदी के किनारे स्थित है! यह गुवाहाटी से करीब 277 KM दूर है आैर यह मुस्लिम बहुल क्षेत्र है! आजादी के समय यहां सिर्फ 12 फीसदी मुसलमान थे! 2011 की जनगणना के मुताबिक धुबड़ी में अब 98.25 फीसदी मुसलमान है!

और देखें -

अगर आपके पास राशन कार्ड है, तो जरुर पढ़ें नहीं तो…?अब चाहिए Passport अपने ही देश के इस शहर में जाने के लिए , ये रहा इसका कारण…

अब चाहिए Passport अपने ही देश के इस शहर में जाने के लिए , ये रहा इसका कारण…महात्मा गाँधी को मारने के बाद नाथूराम गोडसे का आखिरी बयान, आप सबको जरूर जानना चाहिए …