पीएम नरेन्द्र मोदी ने अपनी पत्नी को क्यों छोड़ा, खुल गया देश की राजनीति का सबसे बड़ा रहस्य..

PM Narendra Modi left wife: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी इन दिनों भारत ही नहीं पूरी दुनिया में छा गये हैं। पहले कई बार गुजरात के सीएम रह चुके मोदी ने जब से केन्द्र की राजनीति में कदम रखा और साल 2014 में प्रधानमंत्री का पद संभाला, तब से उनकी लोकप्रियता का ग्राफ बढ़ता ही जा रहा है। हर कोई उनके बारे में जानना चाहता है। उनके जीवन का सबसे बड़ा सवाल है कि उन्होंने अपनी पत्नी जशोदाबेन का त्याग क्यों किया। PM Narendra Modi left wife दो दिन रुकी थी ससुराल में मोदी की बारात नरेन्द्र मोदी गुजरात में पैदा हुए हैं। जब वो 17 साल के थे तब उनकी बारात गुजरात के उंझा के नज़दीक ब्रह्मवाड़ा गांव में गई थी जहां 15 साल की जशोदाबेन का मायका था। मोदी की बारात पूरे धूमधाम से निकली थी और ब्रह्मवाड़ा गांव में पूरे दो दिन रुकी थी। जानकार बताते हैं कि उनकी शादी गुजरात के पूरे रीति रिवाज के साथ हुई थी। इसके बाद मोदी अपनी दुल्हन को घर भी ले आये थे. शादी के बाद नहीं लगा घर में मन कहते हैं नरेन्द्र मोदी शुरू से ही त्यागी औऱ संन्यासी स्वभाव के थे। उनका मन घर परिवार में नहीं लगा करता था। उनको देश के मुद्दे, राजनीति आदि में ही रुचि होती थी। कभी परिवार बढ़ाने और चलाने की उन्होंने सोची ही नहीं थी। उनकी शादी के बारे में भी बताया जाता है कि मोदी शादी नहीं करना चाहते थे लेकिन परिवार वालों के दबाव में उन्होंने विवाह कर लिया था. यह रही पत्नी को छोड़ने की वजह मोदी एक युवक के रूप में अपनी राह तलाशते हुए राष्टीय स्वयंसेवक संघ से टकरा गये। उनको लगा जैसे उनको एक मंजिल मिल गई। संघ का अनुशासन, देश प्रेम की भावना, सेवा भाव और वसुधैव कुटुंबकम का संदेश ही मोदी को भी भा गया। उन्होंने संघ का कार्यकर्ता बनना स्वीकार कर लिया और अपना आगे का जीवन गृहस्थ न होकर संन्यासी और देश सेवक के रूप में चलाने का लक्ष्य निभाया. तीन साल बाद पत्नी को छोड़कर संघ के पास चले गये उस समय उम्र करीब 20 साल रही होगी जब उन्होंने अपना गृहस्थ जीवन त्यागकर देश सेवा के लिए समर्पित होने के लिए संघ का रास्ता चुना। उन्होंने तीन साल बाद अपनी पत्नी को छोड़ दिया और संघ के साथ हो लिए। यहां काम करते हुए और देश सेवा करते हुए धीरे-धीरे उनका प्रवेश भारतीय जनता पार्टी में हो गया। हालांकि मोदी ने कभी भी जशोदाबेन को तलाक नहीं दिया. पत्नी को नहीं था मलाल, स्कूल में पढ़ाकर काटा जीवन PM Narendra Modi left wife जब तीन साल के ही गृहस्थ जीवन के बाद पत्नी जशोदाबेन को छोड़कर संघ के साथ चले गये तो पहले तो जशोदा थोड़ा दुखी हुईं लेकिन बाद में पति के लक्ष्य के आगे संतुष्ट हो गईं। उन्होंने भी स्कूल टीचर की नौकरी शुरू कर दी और अपने छोटे भाई अशोक के साथ उंझा गांव में ही जिन्दगी बिताने लगी। उनको कभी भी अपने पति मोदी से कोई मलाल नहीं रहा। टीवी पर तरक्की देखकर होती रहीं खुश PM Narendra Modi left wife जशोदाबेन के छोटे भाई अशोक बताते हैं कि वैसे तो जशोदा ने कभी भी अपना दुख जाहिर नहीं किया लेकिन जब मोदी ने तरक्की की और वो बड़े नेता बने तो जशोदा उनको टीवी पर देखकर खुश जरूर होती थीं। मोदी ने भी सालों बाद इस बात को स्वीकारा था कि उनकी पत्नी जशोदाबेन हैं. और पढ़े: मोदी सरकार का फैसला कमरा या मकान में किराए पर रहने वालों के लिए खुशखबरी.. Follow @Indiavirals ? ------
 

पीएम नरेन्द्र मोदी ने अपनी पत्नी को क्यों छोड़ा, खुल गया देश की राजनीति का सबसे बड़ा रहस्य..

PM Narendra Modi left wife: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी इन दिनों भारत ही नहीं पूरी दुनिया में छा गये हैं। पहले कई बार गुजरात के सीएम रह चुके मोदी ने जब से केन्द्र की राजनीति में कदम रखा और साल 2014 में प्रधानमंत्री का पद संभाला, तब से उनकी लोकप्रियता का ग्राफ बढ़ता ही जा रहा है। हर कोई उनके बारे में जानना चाहता है। उनके जीवन का सबसे बड़ा सवाल है कि उन्होंने अपनी पत्नी जशोदाबेन का त्याग क्यों किया। पीएम नरेन्द्र मोदी ने अपनी पत्नी को क्यों छोड़ा, खुल गया देश की राजनीति का सबसे बड़ा रहस्य..

PM Narendra Modi left wife

दो दिन रुकी थी ससुराल में मोदी की बारात

नरेन्द्र मोदी गुजरात में पैदा हुए हैं। जब वो 17 साल के थे तब उनकी बारात गुजरात के उंझा के नज़दीक ब्रह्मवाड़ा गांव में गई थी जहां 15 साल की जशोदाबेन का मायका था। मोदी की बारात पूरे धूमधाम से निकली थी और ब्रह्मवाड़ा गांव में पूरे दो दिन रुकी थी। जानकार बताते हैं कि उनकी शादी गुजरात के पूरे रीति रिवाज के साथ हुई थी। इसके बाद मोदी अपनी दुल्हन को घर भी ले आये थे. पीएम नरेन्द्र मोदी ने अपनी पत्नी को क्यों छोड़ा, खुल गया देश की राजनीति का सबसे बड़ा रहस्य..

शादी के बाद नहीं लगा घर में मन

कहते हैं नरेन्द्र मोदी शुरू से ही त्यागी औऱ संन्यासी स्वभाव के थे। उनका मन घर परिवार में नहीं लगा करता था। उनको देश के मुद्दे, राजनीति आदि में ही रुचि होती थी। कभी परिवार बढ़ाने और चलाने की उन्होंने सोची ही नहीं थी। उनकी शादी के बारे में भी बताया जाता है कि मोदी शादी नहीं करना चाहते थे लेकिन परिवार वालों के दबाव में उन्होंने विवाह कर लिया था. पीएम नरेन्द्र मोदी ने अपनी पत्नी को क्यों छोड़ा, खुल गया देश की राजनीति का सबसे बड़ा रहस्य..

यह रही पत्नी को छोड़ने की वजह

मोदी एक युवक के रूप में अपनी राह तलाशते हुए राष्टीय स्वयंसेवक संघ से टकरा गये। उनको लगा जैसे उनको एक मंजिल मिल गई। संघ का अनुशासन, देश प्रेम की भावना, सेवा भाव और वसुधैव कुटुंबकम का संदेश ही मोदी को भी भा गया। उन्होंने संघ का कार्यकर्ता बनना स्वीकार कर लिया और अपना आगे का जीवन गृहस्थ न होकर संन्यासी और देश सेवक के रूप में चलाने का लक्ष्य निभाया. पीएम नरेन्द्र मोदी ने अपनी पत्नी को क्यों छोड़ा, खुल गया देश की राजनीति का सबसे बड़ा रहस्य..

तीन साल बाद पत्नी को छोड़कर संघ के पास चले गये

उस समय उम्र करीब 20 साल रही होगी जब उन्होंने अपना गृहस्थ जीवन त्यागकर देश सेवा के लिए समर्पित होने के लिए संघ का रास्ता चुना। उन्होंने तीन साल बाद अपनी पत्नी को छोड़ दिया और संघ के साथ हो लिए। यहां काम करते हुए और देश सेवा करते हुए धीरे-धीरे उनका प्रवेश भारतीय जनता पार्टी में हो गया। हालांकि मोदी ने कभी भी जशोदाबेन को तलाक नहीं दिया. पीएम नरेन्द्र मोदी ने अपनी पत्नी को क्यों छोड़ा, खुल गया देश की राजनीति का सबसे बड़ा रहस्य..

पत्नी को नहीं था मलाल, स्कूल में पढ़ाकर काटा जीवन

PM Narendra Modi left wife
जब तीन साल के ही गृहस्थ जीवन के बाद पत्नी जशोदाबेन को छोड़कर संघ के साथ चले गये तो पहले तो जशोदा थोड़ा दुखी हुईं लेकिन बाद में पति के लक्ष्य के आगे संतुष्ट हो गईं। उन्होंने भी स्कूल टीचर की नौकरी शुरू कर दी और अपने छोटे भाई अशोक के साथ उंझा गांव में ही जिन्दगी बिताने लगी। उनको कभी भी अपने पति मोदी से कोई मलाल नहीं रहा। पीएम नरेन्द्र मोदी ने अपनी पत्नी को क्यों छोड़ा, खुल गया देश की राजनीति का सबसे बड़ा रहस्य..

टीवी पर तरक्की देखकर होती रहीं खुश

PM Narendra Modi left wife
जशोदाबेन के छोटे भाई अशोक बताते हैं कि वैसे तो जशोदा ने कभी भी अपना दुख जाहिर नहीं किया लेकिन जब मोदी ने तरक्की की और वो बड़े नेता बने तो जशोदा उनको टीवी पर देखकर खुश जरूर होती थीं। मोदी ने भी सालों बाद इस बात को स्वीकारा था कि उनकी पत्नी जशोदाबेन हैं. और पढ़े: मोदी सरकार का फैसला कमरा या मकान में किराए पर रहने वालों के लिए खुशखबरी..

------