लोगो ने ब्राह्मणों के एनकाउंटर पर उठाया सवाल, तो योगी ने जारी कर दी लिस्ट!

0
16

जब से देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ ने कमान संभाली है, उसमें अपराधियों और माफियाओं की संलिप्तता रही है। सीएम योगी के कानूनी डंडे से अपराधियों में खौफ इस कदर है कि कई सालों से जेल में बंद अपराधी बेल पर आने को तैयार नहीं हैं। क्योंकि उन्हें डर है कि अगर वे जेल से बाहर आए तो उनका एनकाउंटर हो सकता है। उत्तर प्रदेश में शपथ लेने के एक महीने बाद, सीएम योगी ने कहा था कि अगर अपराध को ठीक करना है, अगर वह अपराध करता है, तो उसे दंडित किया जाएगा। सीएम योगी ने तीन साल बीत जाने के बाद भी अपना मन नहीं बदला है, वे अपने फैसले पर डटे रहे।

अपराधियों और पुलिस के बीच 6,200 से अधिक मुठभेड़ हुई हैं, जिसमें 14 हजार से अधिक अपराधी गिरफ्तार किए गए हैं। प्रदेश में योगी सरकार बनने के बाद अपराधियों का लगातार सफाया हो गया है। जब से कुख्यात अपराधी विकास दुबे पुलिस मुठभेड़ में मारा गया, तब से विपक्षी दल लगातार यह कहते रहे हैं कि योगी सरकार ‘ब्राह्मण विरोधी’ है और ब्राह्मणों की सबसे ज्यादा मुठभेड़ कर रही है। अल्पसंख्यक समुदाय के ज्यादातर अपराधी पश्चिमी यूपी के थे। उसी समय, शेष 58 अपराधियों में ठाकुर, वैश्य, पिछड़े, अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के बदमाश शामिल थे। वास्तव में, ब्राह्मणों की हत्या और मुठभेड़ पर हमलावर हमलावरों को जवाब देने के लिए। सरकार ने विपक्ष के बयानों का जवाब देने के लिए अपने साढ़े तीन साल के कार्यकाल में कुल मुठभेड़ों और मारे गए अपराधियों की सूची तैयार की है।

पिछले 8 महीनों में 8 ब्राह्मण अपराधी मारे गए हैं। इनमें 6 अपराधी विकास दुबे और उनके गुर्गे थे जो कानपुर के बाइकरू मामले में शामिल थे। तो मेरठ में सबसे ज्यादा एनकाउंटर होते हैं। मेरठ में 14 अपराधी मारे गए हैं।

सीएम योगी साफ कह चुके हैं कि यूपी में अपराधियों के लिए कोई जगह नहीं है। अपराधी या तो जेल में होगा या उसका राम-राम सत्या।