Yogi Decide Muslim Cap: योगी आदित्यनाथ (CM, Yogi Adityanth) ने मुस्लिम टोपी पहनने से इंकार कर दिया, ये एक सेक्युलर (Secularism) देश है, सबको धार्मिक आज़ादी है, अब देश के कट्टरपंथी सेकुलरो ने योगी आदित्यनाथ (CM) पर निशाना साधना शुरू कर दिया!

Yogi Decide Muslim Cap-

योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) को अब सांप्रदायिक बताकर सेक्युलर कह रहे है की उन्होंने मुस्लिम टोपी पहनने से इंकार कर मुसलमानों की भावना को आहात कर दिया, वो घोर सांप्रदायिक है, इत्यादि इत्यादि

Yogi rahul gandhi temples elections

अक्सर इस देश में हिन्दुओ को बहुत ही जल्द सांप्रदायिक (Communal) और आतंकी (Terrorist) घोषित कर दिया जाता है, हमारा तो ये कहना है की योगी (CM, Yogi) किसी मजार पर गए तो वहां के कट्टरपंथी जबरन उनपर जिहादी टोपी क्यों थोपना चाहते थे, जबरन जिहादी टोपी हिन्दुओ पर क्यों थोपी जाती है

  • बिग बॉस (Big Boss) नामक एक TV Program में हीना खान नामक कट्टरपंथी मुसलमान ने पूजा की थाली पकड़ने से इंकार कर दिया था तब किसी सेक्युलर ने इस कट्टरपंथी मुसलमान को कम्युनल नहीं बताया
  • देश में कोई मुस्लिम दीपावली (Dewali) मना ले तो उसके खिलाफ कई मौलवी मौलाना फतवे दे देते है तब उनको Communal नहीं बताया जाता
  • हामिद अंसारी (Ex-President) नामक कट्टरपंथी मुसलमान तो दशहरा पर पूजा की थाली पकड़ने से इंकार कर देता है, मजहब के लिए वन्दे मातरम (National Anthem) कहने से इंकार करता है उसे कम्युनल नहीं बताया जाता

Muslim women triple talaq bill

इस तरह के हजारो Example है जहाँ पर कट्टरपंथियों द्वारा मजहबी कट्टरपंथ की सीमा पार की जाती है वो भी रोजाना फिर भी उनपर कोई सवाल नहीं उठाया जाता

Saudi arab government changes hajj travel

जब एक मस्जिद का इमाम माता की चुनरी नहीं बाँध सकता, वो तिलक नहीं लगा सकता, तो हिन्दुओ के एक बड़े पीठ गोरखनाथ (Gorakhnath) का महंत जिहादी टोपी क्यों पहने, क्या सारा Secularism हिन्दुओ को ही दिखाना है

Ramjan Mystery

सबको अपनी धार्मिक आज़ादी का अधिकार है तो हिन्दुओ को भी है, मुसलमान मंदिर का प्रसाद नहीं लेते, वन्दे मातरम (National Anthem) भारत माता की जय में भी समस्या, तिलक नहीं लगाते, तो फिर हिन्दुओ को ही क्यों जिहादी टोपी पहननी है, जिन Secularism को अपतियाँ है तो जिहादी टोपी शौख से पहनें, हिन्दुओ पर जिहादी टोपी और चर्च का क्रॉस (Cross) न थोपा जाये!

और देखे – भारतीय मीडिया पर हाई कोर्ट ने लगाया 10-10 लाख का जुर्माना, वजह बिलकुल सही है.. 

By dp

You missed